जागरण संवाददाता, अमृतसर : भारतीय जनता पार्टी पंजाब के मीडिया सचिव जनार्दन शर्मा ने प्रदेश के उप-मुख्यमंत्री ओम प्रकाश सोनी के गृह जिले अमृतसर में भयावह स्तर पर पैर पसार चुके डेंगू से बुरी तरह त्रस्त जनता को लेकर गहरी चिता जताई है। उन्होंने कहा कि पंजाब सरकार तथा जिला प्रशासन डेंगू की रोकथाम करने में बुरी तरह फेल साबित हुआ है। उप-मुख्यमंत्री ओपी सोनी की डेंगू को लेकर सख्ती के निर्देश भी काम नहीं आ रहे हैं। सरकार के अपने आंकड़ों के अनुसार अभी तक सबसे ज्यादा डेंगू के मामले अमृतसर में मिल रहे है, जोकि खतरनाक है। जनता सरकारी अस्पतालों में स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए राम-भरोसे है।

उन्होंने कहाकि सरकारी अस्पतालों में जाने से लोग डरते हैं और प्राईवेट अस्पताल महंगे होने के कारण लोग इलाज नहीं करवा पा रहे हैं। उन्हें मजबूरन प्राईवेट अस्पतालों में जाना पड़ रहा है, जहां उनकी भारी लूट हो रही है। इस समय शहर के अस्पतालों में मरी•ाों को बेड नहीं मिल पा रहे हैं। उन्होंने कहा कि शहर में डेंगू ब्लास्ट ने जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग के दावों की पोल खोल दी है। डेंगू रोकथाम के लिए के लिए चलाए जा रहे अभियान केवल दिखावटी साबित हो रहे हैं। महामारी की तरह फैल रहे डेंगू को लेकर अफसर सचेत नहीं नजर आ रहे। इधर अस्पतालों में डेंगू मरीजों की भरमार है। प्राईवेट अस्पतालों में मरीजों के लिए बेड ही नहीं मिल रहे। लोग अपने मरीजों को लेकर इधर-उधर भटक रहे हैं। डेंगू से मरीज के शरीर के खून से घट रहे प्लेटलेट्स को बढ़ाने की चिता अटेंडेंटों को बुरी तरह सता रही है। शहर में जगह-जगह कूड़े के ढेर और चरमराई सफाई व्यवस्था आम बात है। निगम प्रशासन डेंगू से बचाव तथा इसकी रोकथाम के लिए बड़े-बड़े दावे कर रहा है, लेकिन हकीकत बिलकुल इसके विपरीत है। उन्होंने कहा कि जब उन्होंने नगर निगम कमिश्नर अमृतसर से फोन पर बात करनी चाही तो लगातार तीन दिन से उनका फोन बंद मिला। आखिरकार जब उनके पीऐ अरुण कुमार से बात की तो उन्होंने कहा कि यह उनका अधिकार क्षेत्र नहीं है और नगर निगम कमिश्नर बैठक के सिलसिले में पिछले तीन दिन से चंडीगढ़ में हैं।

Edited By: Jagran