मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

जेएनएन, अमृतसर। Operation Blue Star की बरसी से पहले आतंकी वारदात के लिए भेजे गए दो ग्रेनेड मामले में एक बार फिर पाकिस्तान कनेक्शन सामने आ रहा है। यह ग्रेनेड पाकिस्तान में बैठे खालिस्तान लिब्रेशन फोर्स (KLF) के चीफ हरमीत सिंह पीएचडी ने भेजे थे। यह जानकारी SSP (देहाती) विक्रमजीत दुग्गल ने यहां पत्रकारों से बातचीत के दौरान दी।

दुग्गल ने कहा कि अभी तक की जांच में यह बात सामने आई है कि भारत-पाक सीमा पर सटे गांवों में रहने वाले तस्करों ने हेरोइन की कन्साइमेंट ठिकाने लगाने के बाद मिली ड्रग मनी KLF चीफ हरमीत सिंह पीएचडी तक पहुंचाई है। इस ड्रग मनी से ग्रेेनेड, पिस्तौल और गोली सिक्का खरीदकर पंजाब में आतंक बरपाने की योजना बनाई गई है।

पिछले समय के दौरान पकड़े गए दो जासूस मलकीयत सिंह व प्रिंसदीप सिंह, तीन नशा तस्करों और बब्बर खालसा के दो आतंकी रविंदरपाल सिंह व जगदेव सिंह के साथ ग्रेनेड मिलने की इस घटना के तार जुड़े हो सकते हैैं। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान ही नहीं कई अन्य देशों में बैठे हरमीत सिंह पीएचडी जैसे आतंकी सोशल मीडिया के जरिए बच्चों का ब्रेन वाश कर रहे हैैं। लोगों को भी सतर्क रहने की जरूरत है। निरंकारी भवन पर हमला इसका ताजा उदाहरण है।

कैसे और कहां से आए ग्रेनेड, जांच जारी

SSP दुग्गल ने कहा कि KLF चीफ हरमीत सिंह पीएचडी पाकिस्तान में बैठकर भारत के खिलाफ षड्य़ंत्र रच रहा है। रविवार की सुबह पकड़े गए दो ग्रेनेड भी उसी के इशारे पर यहां पहुंचे थे। अभी यह पता नहीं लग पाया है कि यह ग्रेनेड पाकिस्तान से यहां पहुंचे हैं या फिर जम्मू-कश्मीर से। फिलहाल यह भी पता लगाया जा रहा है कि पकड़े गए ग्रेेनेड किस देश और कौन सी असलाह फैक्टरी में तैयार किए गए हैैं। बता दें कि 18 नवंबर 2019 में राजासांसी के गांव अदलीवाल के निरंकारी भवन में हमले में प्रयोग किए गए ग्रेनेड पाकिस्तान की असलाह फैक्टरी में बना था।

आरोपित पकड़ से दूर, मोबाइल से मिले कई सुराग

अभी तक इस मामले में फरार युवकों की गिरफ्तारी नहीं हो पाई है, लेकिन SSP ने दावा किया कि ग्रेनेड के साथ पकड़ में आए फरार युवकों के मोबाइल से पुलिस को अहम सुराग मिले हैं। ग्रेनेड ले जाने वाले आरोपितों को जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Kamlesh Bhatt

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!