विपिन कुमार राणा, अमृतसर

निकायमंत्री नवजोत सिंह सिद्धू के ड्रीम प्रोजेक्ट पर पड़े हुए कानूनी पेंच के बादल छट गए है। रणजीत एवेन्यू ई ब्लाक बाईपास पर बनने वाली स्पो‌र्ट्स एकेडमी की 27 एकड़ जगह में से 8 एकड़ पर कानूनी विवाद बना हुआ था। नगर सुधार ट्रस्ट इस कानूनी पेचीदगी को दूर करने का लंबे समय से प्रयास कर रहा है। सोमवार को सिविल जज गुरशेर सिंह संधू ने जगह पर बना हुआ स्टे खत्म करते हुए फैसला ट्रस्ट के हक में दे दिया है।

बताते चले कि रणजीत एवेन्यू बाईपास पर 12 नवंबर 2011 को पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल, निकायमंत्री तीक्ष्ण सूद, पूर्व उपमुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल, तत्कालीन सांसद नवजोत सिंह सिद्धू, पूर्व विधायक अनिल जोशी, ट्रस्ट के चेयरमैन संजीव खन्ना ने स्पो‌र्ट्स काम्पलेक्स का शिलान्यास किया था। सालोंसाल बीतने के बावजूद काम्पलेक्स नहीं बना रहा। सिद्धू ने 15 सितंबर 2013 को मौका ए मुआइना करते हुए तत्कालीन पंजाब की अकाली भाजपा सरकार पर सवालिया निशान खड़े किए थे। तब आलम यह था कि कांप्लेक्स की ग्राउंड कूड़े का डंप बन चुकी है और वर्तमान में भी वहां सालिड वेस्ट प्रोजेक्ट की मशीनरी खड़ी रहती है। पंजाब में कांग्रेस की सरकार बने दो साल हो चुके है। 15 अक्टूबर 2018 को निकायमंत्री सिद्ध ने दोबारा इसका उद्घाटन मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिदर सिंह से करवाते हुए इसके जल्द शुरू होने की हुंकार भरी थी, पर मामला कोर्ट में होने की वजह से अभी तक लटका हुआ है।

1973 में ट्रस्ट ने एकवायर की थी जमीन

रणजीत एवेन्यू स्थित एकेडमी की 27 एकड़ जगह में से 8 एकड़ जगह का कोर्ट केस है। ट्रस्ट के वकील मुकेश नंदा ने बताया कि यह जगह ट्रस्ट द्वारा 1973 में एक्वायर की गई थी। 1980 में इसका कब्जा लिया गया। 8 एकड़ जगह के मालिक पाल सिंह, ज्ञान कौर, दुर्गा दास को मुआवजा दिया गया, पर बाद में उन्होंने यह कहते हुए केस कर दिया कि मुआवजा कम है, जबकि जमीन की कीमत अधिक। ट्रस्ट ने फिर 37 लाख रुपये अदा किए। पैसे लेने के बाद 2006 में उन्होंने यह जमीन ईशान डेवल्पर को बेच दी। ईशान डेवल्पर ने ट्रस्ट पर दावा डाल दिया कि यह जमीन उनकी है, तभी से यह केस चल रहा है।

18 खेलों के लिए बनना है ट्रैक

बाईपास की 27 एकड़ जगह में 33 करोड़ की लागत से स्पो‌र्ट्स एकेडमी बनेगी। यह एकेडमी पंजाब सरकार की स्पो‌र्ट्स पालिसी के मुताबिक काम करेगी। कम शुल्क पर खिलाड़ियों की एंट्री रहेगी और खिलाड़ियों को कोचों की सहूलियत यहां दी जाएगी। 18 खेलों के लिए इसमें ट्रेक तैयार होंगे। एथलेटिक्स व जिम्नास्टिक के सभी आयामों के अलावा 15 क्रिकेट पिच, 4 लान टेनिस कोर्ट, एक बास्केटबॉल कोर्ट, 2 वालीवॉल के नेट, स्केटिग रिग, रेसलिग व बाकिग रिग, बैंडमिटन व टेनिस कोर्ट भी बनाए जाएंगे।

आज फाइनल सुनवाई के समय में ट्रस्ट के ईओ जीवन बांसल, एसई राकेश गर्ग, लॉ आफिसर राकेश राज किशन सहित कई अधिकारी मौजूद थे। कोर्ट ने जगह को लेकर चल रहा स्टे खत्म कर दिया है। इसमें ट्रस्ट की जीत हुई है।

—मुकेश नंदा, वकील नगर सुधार ट्रस्ट।

ट्रस्ट द्वारा पाल सिंह व अन्यों पर 2019 में धोखाधड़ी का मामला दर्ज करवाया था। मामले पर निकायमंत्री पहले दिन से ही नजर रखे हुए है। आज कोर्ट ने जगह का फैसला ट्रस्ट के हक में दिया है। इससे निकायमंत्री के ड्रीम प्रोजेक्ट का रास्ता साफ हो गया है।

—राजीव सेखड़ी, एसई नगर सुधार ट्रस्ट

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!