जागरण संवाददाता, अमृतसर : ग्रांट थार्नटन एलएलपी इंडिया के सीईओ विशेष सी. चंडियोक ने इंडियन इंस्टीट्रयूट ऑफ मैनेजमेंट आइआइएम अमृतसर के विद्यार्थियों को जीवन में तरक्की करने के लिए तीन रहस्यों को अपनाने की सलाह दी है। उन्होंने कहा कि अहंकार छोड़कर काम करना, किसी भी परिस्थिति को दुनिया में अंतिम परिस्थिति न समझना व असंभव को संभव बनाने के लिए संघर्षरत रहना जरूरी है। इन रहस्यों को अपनाकर इंसान जीवन में शीर्ष स्थान अर्जित कर सकता है।

विशेष चंडियोक सोमवार को आइआइएम अमृतसर में दूसरे दीक्षा समारोह में बतौर मुख्य अतिथि विद्यार्थियों को संबोधित कर रहे थे। आइआइएम अमृतसर के चेयरपर्सन संजय गुप्त व डायरेक्टर प्रोफेसर कुलभूषण बालूणी भी इस अवसर पर मौजूद थे। समारोह के दौरान, पोस्ट-ग्रेजुएट प्रोग्राम (पीजीपी) के दूसरे बैच के 104 छात्रों को प्रबंधन में डिप्लोमा प्रदान किए गए।

चंडियोक ने कहा कि एक युवा की उन्नति में शिक्षण संस्थान, अध्यापकों और परिवार की हम भूमिका होती है। जो लोग ¨जदगी में किसी भी पड़ाव को अंतिम नहीं समझते वह बहुत ही जल्दी शीर्ष हासिल करते हैं। डिग्री हासिल करने के बाद अब निरंतर बढ़ने का सपना देखें और इसे पूरा करने के लिए पूरी शक्ति से कदम आगे बढ़ाएं।

आइआइएम के चेयरपर्सन संजय गुप्त ने विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कहा कि कृषि आधारित स्टार्ट-अप स्थापित करने के लिए स्नातक छात्रों को आगे आना होगा। आज कृषि क्षेत्र में उद्यमिता के विशाल अवसर हैं। देश में कृषि सेक्टर का विकास होता है तो देश दुनिया में एक बड़ी आर्थिक शक्ति के रूप में सामने आ सकता है। इसमेंयुवा विशेष भूमिका निभा सकता है। पंजाब में इस क्षेत्र में बड़े अवसर है। युवाओं को चाहिए कि वह पंजाब में कृषि उद्यमिता को बढ़ावा देने की दिशा में काम करें।

आइआइएम अमृतसर के डायरेक्टर प्रोफेसर कुलभूषण बालूणी ने छात्रों के सफल करियर की कामना की। उन्होंने कहा कि आपके करीबी मित्र किसी भी हद तक आपके साथ चले जाएंगेलेकिन असली परीक्षा तब होती है जब आप अकेले पहला कदम उठाते हैं। इस कार्यक्रम में अमृतसर के सांसद गुरजीत सिह औजला भी मौजूद थे।

--------

अखिल विनटा व अब्दुल कादिर को गोल्ड मेडल

आइआइएम के इस बैच के छात्र अखिल विनटा को शैक्षिक प्रदर्शन के लिए और अब्दुल कादिर दुला को बहुमुखी प्रदर्शन के लिए स्वर्ण प्रदान किया गया। विनटा शिमला व अब्दुल कादिर अहमदाबाद से हैं।

Posted By: Jagran