हरदीप रंधावा, अमृतसर

पावरकाम मैनेजमेंट उपभोक्ताओं को बेहतर सेवाएं प्रदान करने के लिए आए दिन कर्मचारियों को तनदेही से ड्यूटी निभाने के लिए प्रेरित करता रहता है। वहीं, दूसरी तरफ कर्मचारियों की कमी पर कभी ध्यान नहीं देने से पावरकाम की कारगुजारी पर सवाल खड़े हो रहे हैं।

इसकी उदाहरण सब अर्बन सर्किल की ईस्ट डिवीजन की गोपाल नगर सब डिवीजन में देखने को मिलती है। यहां फील्ड स्टाफ की कमी के चलते विभागीय कर्मचारियों को ही नहीं बल्कि विभाग के उपभोक्ताओं को भी परेशानी से गुजरना पड़ता है। सब डिवीजन में एएलएम की 45 पोस्टें हैं खाली

पावरकाम की तरफ से गोपाल नगर सब डिवीजन में टेक्निकल व कार्मशियल सब डिविजनल अधिकारी (एसडीओ) और एक जूनियर इंजीनियर-वन की पोस्ट ही भरी हुई है। वहीं, जूनियर इंजीनियर (जेई) की कुल आठ पोस्टें सेंक्शन होने के बावजूद दो पोस्टें आज भी खाली चल रही हैं। सहायक लाइनमैन (एएलएम) की सिर्फ 13 पोस्टों पर ही कर्मचारी तैनात हैं जबकि 45 पोस्टें आज भी खाली हैं। गोपाल नगर सब डिवीजन में दो चपरासी और एक चौकीदार की पोस्ट है, जिस पर कर्मचारी तैनात हैं। पोस्टें भरने को लेकर मैनेजमेंट नहीं है गंभीर

गोपाल नगर सब डिवीजन में स्टाफ की कमी होने की वजह से फील्ड का काम सबसे ज्यादा प्रभावित होता है। जब भी फील्ड में बिजली की सप्लाई में फाल्ट पड़ता है, तो उसके समाधान में देरी की वजह से उपभोक्ताओं को होने वाली दिक्कत की वजह से विभाग के अधिकारियों को भी अपने उच्चाधिकारियों की फटकार सुननी पड़ती हैं। दिन-प्रतिदिन गोपाल नगर सब डिविजन में बिजली के कनेक्शन बढ़ रहे हैं व पावरकाम मैनेजमेंट खाली पोस्टों को भरने के लिए कोई ध्यान नहीं दे रही है। सब डिवीजन में एएलएम की अधिकतर पोस्टों के खाली होने के पीछे एएलएम की तरक्की होना है, जोकि तरक्की के बाद एलएम बन चुके हैं, जिसकी वजह से एएलएम की पोस्टें ज्यादा खाली हैं। सेंक्शन पोस्टें भरना है मैनेजमेंट का काम

गोपाल नगर सब डिवीजन के कामर्शियल विग के सब डिवीजनल अधिकारी (एसडीओ) विपन कुमार विज ने माना कि कि फील्ड स्टाफ की कमी होने की वजह से परेशानी जरूर होती है। उन्होंने साथ ही कहा कि फील्ड स्टाफ की सेंक्शन पोस्टों पर स्टाफ सदस्यों की तैनाती करवाना पावरकाम मैनेजमेंट का काम है।उनका कहना है कि सब डिवीजन में फील्ड स्टाफ की कमी संबंधी जानकारी विभागीय के सभी उच्चाधिकारियों व मैनेजमेंट को है, उम्मीद है कि शीघ्र पोस्टें भरी जाएंगी।

Edited By: Jagran