हरीश शर्मा, अमृतसर : नेशनल हेरिटेज सिटी डेवलपमेंट एंड ऑग्मेंटेशन योजना (हृदय) के अधीन शहर में विभिन्न स्थानों का सुंदरीकरण किया गया है जिनमें से एक है गोल बाग चिल्ड्रन पार्क। जिस पर पांच करोड़ रुपये खर्च किए गए थे। जोकि मौजूदा समय में गंदगी, अवारा जानवरों और नशा करने वालों का अड्डा बन चुका है। पूरे पार्क में गंदगी के ढेर लगे हुए हैं। अवारा जानवरों ने अपने शैल्टर बनाए हुए है और पार्क में घूमते रहते हैं। जिस कारण यह खूबसूरत पार्क पहले की तरह फिर से विरान होता जा रहा है। लेकिन स्थानीय प्रशासन की ओर से इस तरफ कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है। इसके रखरखाव की जिम्मेदारी नगर निगम की है लेकिन किसी भी निगम अधिकारी ने इस पार्क की कभी सुध नहीं ली। झूले, बैंच, वाकिग रोड सहित कई खूबसूरत चीजे बनाई थी पार्क में

हृदय प्रोजेक्ट की सिटी एंकर व आर्किटेक्ट गुरमीत रॉय ने बताया कि 2015 में पार्क का काम शुरु किया था। पांच करोड़ रुपये की लागत से इस पार्क को खूबसूरत बनाने के लिए बच्चों के लिए कई तरह के झूले लगाए गए। बैठने के लिए बैंच लगाए गए थे। कोई भी कूड़ा इधर-उधर न फेंके। इसके लिए बकायदा डस्टबिन लगाए गए हैं। डेढ़ साल से ज्यादा समय बीत चुका है निगम को हैंड ओवर किए हुए हैं। इसके बावजूद निगम इसके रख-रखाव कर पाने में असमर्थ साबित हो रहा हैं। अब पार्क में आने से भी डरते है लोग

गोलबाग पार्क शहर की सबसे पुरानी है। यहां पर लोग सुबह के समय सैर करते थे। बच्चों को लेकर आते थे। झूले झूलते थे लेकिन मौजूदा समय में गोलबाग के जो हालात हैं। उससे अब लोग यहां पर आने से डरने लगे हैं और यहां तक कि अवारा जानवरों का इतना ज्यादा खौफ है कि लोग बच्चों को लेकर आने से कतराते हैं। रात के समय बन जाता है नशेड़ियों का अड्डा

यह पार्क अब रात के समय नशेड़ियों का अड्डा बनना शुरु हो गया हैं। नशा करने के आदि युवा इस पार्क में छुपकर बैठ जाते हैं और शराब पीते हैं। इंजेक्शन लगाते हैं आदि। लेकिन इस तरह प्रशासन या पुलिस ने कभी भी कार्रवाई करने की जरूरत नहीं समझी।

-------------------

पार्क की हालत के बारे में जानकारी नहीं थी। इस संबंधी संबंधित ब्रांच को आदेश जारी कर रहे हैं। ताकि जल्द से जल्द पार्क की साफ-सफाई करवाई जाए और वहां से अवारा जानवरों को भी हटाया जा सके। इसके अलावा पुलिस विभाग को भी लिखकर भेजेंगे। ताकि जो लोग भी वहां पर बैठ कर नशा करते हैं। उनके खिलाफ भी कार्रवाई हो।

-कर्मजीत सिंह रिटू, मेयर

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!