जागरण संवाददाता, अमृतसर : पूर्व सेहत मंत्री प्रो. लक्ष्मीकांता चावला ने स्थानीय निकाय मंत्री ब्रह्म महिद्रा को पत्र लिख कर अमृतसर नगर निगम के उदासीन रवैये की दास्तां बताई। उन्होंने कहा कि देश कोरोना से लड़ रहा है लेकिन निगम की ढीली कार्यप्रणाली बीमारियों को निमंत्रण दे रही है।

प्रो. चावला ने कहा शहर में गंदगी की भरमार है। जगह-जगह गंदगी के ढेर दिखाई देते हैं। लेकिन नगर प्रशासन चैन की नींद सो रहा है। शहर में आवारा कुत्ते भी आम जनता के लिए परेशानी बने हुए हैं।

उन्होंने कहा कि पंजाब में जितने लोग कोरोना से संक्रमित हुए हैं, उससे कई गुणा ज्यादा कुत्तों के काटने से मरीज बने हैं। कई लोग तो इससे जान गंवा चुके हैं। उन्होंने कहा कि कहीं ऐसा नहीं कि गंदगी को दीवार के पीछे कर दिया जाए और विदेशों मेहमानों के आने पर कुत्तों को बेहोश कर दिया जाए। जिम्मेवारी नगर निगम की है, लेकिन विभाग इसके प्रति पूरी तरह से उदासीन लगता है। प्रो. चावला ने कैबिनेट मंत्री महिद्रा को आम शहरी की तरह आकर इस पूरी व्यवस्था को देखने का भी आमंत्रण इस पत्र के जरिए दिया है।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!