अमृतसर, जेएनएन। दशहरा पर्व पर हर साल आप परिवार के साथ बड़े मैदान में रावण, कुंभकर्ण और मेघनाद के पुतलों का दहन देखने जाते थे। हालांकि कोरोना काल के चलते इस बार ऐसा नहीं हो पाएगा। दशहरा कमेटियां दशहरा उत्सव का आयोजन नहीं कर रहीं, लेकिन हम जानते है कि आपका उत्साह कम नहीं है। आपके इसी उत्साह को बरकरार रखने के लिए दैनिक जागरण खास आपके लिए अपने फेसबुक पेज पर लाइव दशहरा उत्सव दिखाएगा, जोकि शहर की एक मात्र श्री दुर्ग्याणा कमेटी की ओर से रंजीत एवेन्यू स्थित दशहरा ग्राउंड में दोपहर तीन बजे से मनाया जाएगा।

जागरण अपील.. त्योहार में रखें अपना ख्याल

दैनिक जागरण आपसे अपील करता है कि कोरोना के चलते घर से निकलकर भीड़ न जुटाएं। अब तक इसकी को वैक्सीन नहीं आई है। मास्क पहनकर भी भीड़ में जाना खतरे से खाली नहीं है। ऐसे में आप घर ही रहकर जागरण के फेसबुक पेज पर परिवार के साथ लाइव दशहरा उत्सव का आनंद उठाएं।

शुभ मुहूर्त

दशमी तिथि प्रारभ : 25 अक्टूबर, सुबह 07:41 मिनट से

दशमी तिथि समाप्त : 26 अक्टूबर, सुबह 09 बजे तक

विजय मुहूर्त : 25 अक्टूबर 01:57 से 02: 42 कुल अवधि : 45 मिनट

पूजा का समय : दोपहर 01: 12 से दोपहर 03 : 27

कुल अवधि : 02 घटे 15 मिनट

मुहूर्त का महत्व

दशहरा का विजय मुहूर्त सर्वकार्य सिद्धिदायक होता है। मान्यता है कि शत्रु पर विजय प्राप्त करने के लिए इसी समय निकलना चाहिए। विजय मुहूर्त में गाड़ी, इलेक्ट्रानिक सामान, आभूषण व वस्त्र खरीदना शुभ माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि इस मुहूर्त में कोई भी नया काम किया जाए तो सफलता अवश्य मिलती है। इस दिन शस्त्र पूजा के साथ ही शमी के पेड़ की पूजा की जाती है। साथ ही रावण दहन के बाद थोड़ी सी राख को घर में रखना शुभ माना जाता है। (हिंदी पंचांग के अनुसार)

सिर्फ कमेटी सदस्य ही होंगे शामिल

श्री दुर्ग्याणा कमेटी के प्रधान एडवोकेट रमेश शर्मा ने बताया कि कोरोना वायरस के कारण इस बार बड़े पुतले अग्नि दहन नही किए जाएंगे। लंगूर मेले के दौरान यह परंपरा है कि लंगूर बने बच्चे ही रावण को तीर मारते हैं। यह परंपरा निभाने के लिए 20 फुट का रावण तैयार किया गया है। इस आयोजन में कमेटी के सदस्य ही उपस्थित होंगे। लोगों का जमावड़ा नहीं लगेगा। इसलिए लोग दशहरा ग्राउंड में न आएं।

फाटक या हाईवे के पास मंजूरी नहीं

दो साल पहले जोड़ा फाटक पर दशहरा पर्व के दौरान हुए रेल हादसे से सबक लेते हुए डीसी गुरप्रीत सिंह खैहरा ने रेलवे फाटक, नेशनल हाईवे या सड़कों के आस-पास आयोजन पर पाबंदी लगाई है। हालांकि इस बार कोई बड़ी संस्था दशहरा उत्सव नहीं मना रही, लेकिन कई सोसायटियां छोटे स्तर पर रावण के पुतलों का दहन करती है। ऐसे में डीसी ने साफ तौर पर कहा है कि किसी को रेलवे फाटक या हाईवे के पास पुतला दहन की मंजूरी नहीं मिलेगी।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!