जागरण संवाददाता, अमृतसर: नगर निगम दफ्तर में वीरवार को ठेकेदार गौरव ठाकुर ने वीरवार एक्सईएन मंजीत सिंह और जेई गुरशरण सिंह के खिलाफ धरना दिया। उन्होंने आरोप लगाया कि उनके नकली साइन कर रकम हड़पते हुए धोखाधड़ी की गई है। करीब एक घंटे तक गौरव ठाकुर ने दोनों अधिकारियों के खिलाफ नारेबाजी और धोखा करने के आरोप में केस दर्ज करने की मांग की।

गौरव ने बताया कि वह नगर निगम में ठेकेदारी करते हैं। दोनों अधिकारियों ने अक्टूबर, नवंबर 2020 में कई काम करवाए। उनकी करीब 72 फाइलें हैं। प्रति फाइल पर बीस हजार रुपये का काम हुआ था, लेकिन दोनों अधिकारियों ने कहा कि फाइलें मिल नहीं रहीं। उनकी बनती 14.40 लाख रुपये की पेमेंट हो जाएगी। इस संबंधी मंजीत सिंह ने स्टांप पर लिखकर भी दिया था। मगर इतना समय बीतने के बाद भी उनकी पेमेंट नहीं की गई। उलटा दोनों ने मिलकर स्टांप पर उनके फर्जी साइन कर लिख दिया कि उसने (गौरव ठाकुर) पैसे रिसीव कर लिए हैं। इसी कारण उसने यहां पर धरना दिया है और विजिलेंस जांच करते हुए दोनों के खिलाफ केस दर्ज करने की मांग रखी। अगर सोमवार तक कार्रवाई नहीं होती तो फिर से रोष जाहिर करेंगे। एक्सईएन मंजीत सिंह ने नकारे आरोप

वहीं एक्सईएन मंजीत सिंह ने कहा कि गौरव ठाकुर बिना वजह ही आरोप लगा रहा है। केवल दबाव बनाने की कोशिश में है जबकि उनके पास सारे दस्तावेज हैं। केवल उन्हें परेशान करने के लिए ऐसा सब कुछ किया जा रहा है।

Edited By: Jagran