संवाद सहयोगी, अमृतसर

देश के दूसरे राष्ट्रपति डॉ. सर्व पल्ली राधा कृष्णनन की याद में मनाए जाते अध्यापक दिवस पर शिक्षा मंत्री ओम प्रकाश सोनी ने सांझा अध्यापक मोर्चा के पांच सस्पेंड नेताओं को बहाल कर तोहफा दिया है। सोनी ने अध्यापकों की बहाली के आदेश जालंधर में आयोजित राज्य स्तरीय सम्मान समारोह के दौरान दिए। बहाल होने वाले अध्यापकों में सरकारी सीसे स्कूल वेरका अमृतसर में तैनात लेक्चरर मंगल ¨सह, सरकारी मिडिल स्कूल लोहारका खुर्द में तैनात मा. ऊधम ¨सह मनावा, सरकारी सीसे स्कूल खलचियां में तैनात अश्वनी कुमार, अवस्थी, सरकारी सीसे स्कूल जब्बोवाल में तैनात जरमनजीत ¨सह व सरकारी सीसे स्कूल सोहिया कलां में तैनात अमन शर्मा है। उधर, अध्यापक यूनियन ने सरकार के इस फैसले की प्रशंसा की है।

खास बात यह है कि तत्कालीन डीईओ सेकेंडरी सुनीता किरण की रिपोर्ट के बाद इन अध्यापकों को शिक्षा मंत्री ओम प्रकाश सोनी ने सस्पेंड किया था। वहीं यह बहाली वर्तमान डीईओ सेकेंडरी अमृतसर सल¨वदर ¨सह समरा के हस्तक्षेप के बाद हुई है। समरा ने अपने जिले के इन पांच सस्पेंड अध्यापकों को बहाल करवाने के लिए मंत्री से सिफारिश की थी और कहा था कि अध्यापक दिवस के अवसर पर उनकी बहाली उनके लिए किसी तोहफे से कम नहीं होगी।

उल्लेखनीय है कि शिक्षा मंत्री ओम प्रकाश सोनी के गृह जिले में सांझा अध्यापक मोर्चा के नेताओं ने 27 जुलाई को डीईओ दफ्तर के बाहर धरना लगाया था और सरकार के खिलाफ नारेबाजी की थी। सस्पेंशन के बाद इन्हें नए स्टेशन या हेड क्वार्टर भी एक माह के बाद बनाए गए थे। तब तत्कालीन शिक्षा अधिकारी की ओर से भेजी रिपोर्ट के बाद अध्यापक मंगल ¨सह, मा. ऊधम ¨सह मनावा, अश्वनी कुमार अवस्थी, जरमनजीत ¨सह व अमन शर्मा को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया था। इस सस्पेंशन के बाद अध्यापक संगठनों ने पटियाला में मुख्यमंत्री के शहर में रोष मार्च भी किया था।

Posted By: Jagran