अमृतसर, जागरण संवाददाता  :  गणतंत्र दिवस पर आज पूरे देश से 56 युवाओं को वीर बाल पुरस्कार से सम्मानित किया जा रहा है। इसमें पंजाब के 3 युवा बच्चे हैं जिन्हें इस अवार्ड से नवाजा जा रहा है। अजान की बहादुरी से अमरनाथ में भूस्खलन की घटना के दौरान 100 लोगों से अधिक की जान बच गई थी।

पिता सुनील कपूर ने बताया कि अजान को पंजाब के राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित ने चंडीगढ़ में पंजाब भवन में भी बुलाया था। अजान शहीद परिवार से संबंध रखता है। वह 13 अप्रैल 1919 को जलियांवाला बाग कांड के दौरान शहीद हुए लाला बसु मल का परपोता है। कपूर परिवार में अजान दूसरा शख्स है जिसे राष्ट्रीय स्तर पर पुरस्कार से नवाजा जा रहा है।

अमरनाथ यात्रा के दौरान लोगों को भूस्खलन से बचाया था

अजान ने पिछले साल अमरनाथ यात्रा के दौरान लोगों को भूस्खलन से बचाया था। घटना 31 जुलाई रात को घटित हुई थी। सभी श्रद्धालु अमरनाथ गुफा से लौटते समय लंगर खा रहे थे। उस दिन से पहले, पिछले 4 दिनों से बारिश हो रही थी। रात अजान बालटाल कैंप में रुका हुआ था। रात 8:00 बजे अजान लंगर में सेवा करने चला गया। लगभग एक घंटा सेवा करने के बाद वह लंगर घर के पिछली तरफ गया। उसने नाले में पानी के तेज बहाव को देखा। पास की चोटियों से पत्थरों के दरकने की आवाज भी सुनी।

पत्थरों को आते देखा। अजान सीधा कैंप की तरफ भागा। कैंप व लंगर में लोगों को पानी के बहाव व पत्थरों के बारे में आगाह किया। खतरे को भांपते ही सभी सुरक्षित स्थानों की तरफ भागे। 5 मिनट की देरी हो जाती तो 100 जिंदगी जान गवा देती। उन्हें सुबह 3:00 बजे के करीब सुरक्षाबलों ने सुरक्षित जगह तक पहुंचा दिया।

56 बच्चों में अजान को भी वीर बाल पुरुस्कारों से किया जा रहा सम्मानित 

पूर्व डिप्टी स्पीकर दरबारी लाल को अजान की इस बहादुरी से पता चला तो उन्होंने प्रशंसा की। बिना समय गवाएं इसकी जानकारी डीसी अमृतसर को दे दी। उन्होंने इसके लिए डीसी अमृतसर को पत्र भी लिखा जिन्होंने अजान का नाम केंद्र को भेज दिया। कुछ प्रयासों के बाद अजान का नाम उन 56 युवा बच्चों में आया जिन्हें इस साल वीर बाल पुरस्कार से नवाजा जा रहा है।

Edited By: Nidhi Vinodiya

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट