Move to Jagran APP

Amritsar News: अकाल तख्त का अल्टीमेटम, बेकसूर सिख युवाओं को 24 घंटे में नहीं छोड़ा तो लेंगे बड़ा एक्शन

Akal Takht Ultimatum अमृतसर में खालिस्तान समर्थक अमृतपाल पर कार्रवाई और उसके समर्थकों की गिरफ्तारी के बाद श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह ने सोमवार को सिख संगठनों के प्रतिनिधियों और बुद्धिजीवियों से बैठक की।

By Jagran NewsEdited By: Himani SharmaPublished: Tue, 28 Mar 2023 07:52 AM (IST)Updated: Tue, 28 Mar 2023 07:52 AM (IST)
Amritsar News: अकाल तख्त का अल्टीमेटम, बेकसूर सिख युवाओं को 24 घंटे में नहीं छोड़ा तो लेंगे बड़ा एक्शन
बेकसूर सिख युवाओं को 24 घंटे में नहीं छोड़ा तो लेंगे बड़ा एक्शन

जासं, अमृतसर: खालिस्तान समर्थक अमृतपाल पर कार्रवाई और उसके समर्थकों की गिरफ्तारी के बाद श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह ने सोमवार को सिख संगठनों के प्रतिनिधियों और बुद्धिजीवियों से बैठक की। बैठक के बाद उन्होंने पंजाब सरकार को अल्टीमेटम देते हुए कहा कि अगर 24 घंटे में बेकसूर सिख युवाओं को न छोड़ा तो बड़ा एक्शन लिया जाएगा। जत्थेदार ने कहा कि सिखों के चरित्र पर हमला कर बदनाम किया जा रहा है।

loksabha election banner

सिखाें की छवी खराब करने का किया गया प्रयास 

अपील की कि जिन लोगों पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (एनएसए) लगाया गया है, उसे लेकर सरकार पुनर्विचार करे। उन्होंने दोहराया कि अमृतपाल को आत्मसमर्पण करना चाहिए और अगर वह सरकार के पास है तो स्थिति स्पष्ट की जानी चाहिए। ज्ञानी हरप्रीत सिंह ने कहा कि सिखों की छवि खराब करने का प्रयास किया गया है। अगर अमृतपाल के साथी बाजेके जैसे लोगों की एक मीडिया पोस्ट से ही देश को खतरा है, तो देश सुरक्षित कैसे हो सकता है।

हरिके में बेकसूर सिखों की रिहाई के लिए प्रदर्शन करने वालों पर लाठीचार्ज किया। अब हमें भी वैसे ही जवाब देना होगा। उन्होंने कौम के नाम संदेश में कहा कि श्री अकाल तख्त साहिब बेकसूर सिखों के साथ है। वहीं शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष एडवोकेट हरजिंदर सिंह धामी ने कहा कि यदि सरकार न मानी तो राज्य में खालसा वहीर (मार्च) निकालेंगे।

पकड़े गए सिख युवाओं के लिए लड़ी जाएगी कानूनी लड़ाई

इसमें सिखों पर अत्याचार के बारे में बताया जाएगा। पकड़े गए सिख युवाओं के लिए कानूनी लड़ाई लड़ी जाएगी। जिन चैनलों पर सिखों के चरित्र को उछाला गया है, उन पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी। कुछ खालिस्तान समर्थक बिना बुलाए पहुंच गए। जब उन्हें बैठक में शामिल होने से रोका गया तो अकाल तख्त के बाहर खालिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए।

जत्थेदार बोले-अमृतपाल को सरेंडर कर देना चाहिए

जत्थेदार ने दोहराया कि अमृतपाल को आत्मसमर्पण करना चाहिए और अगर वह सरकार के पास है तो स्थिति स्पष्ट की जानी चाहिए।


Jagran.com अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरेंWhatsApp चैनल से जुड़ें
This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.