लखनऊ, जेएनएन। Bharat Bandh in UP : बहुजन क्रांति मोर्चा व अन्य संगठनों की ओर से नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के विरोध में भारत बंद का उत्तर प्रदेश में मिला-जुला असर रहा। अधिकतर जिलों में बाजार खुले रहे। प्रदर्शन की आशंकाओं के मद्देनजर पुलिस सतर्क रही। कहीं पर कोई अप्रिय घटना नहीं हुई। कुछ स्थानों पर प्रदर्शनकारी उग्र जरूर हुए, लेकिन पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया। अंबेडकरनगर में हाईवे पर प्रदर्शनकारियों ने उग्रता दिखाने की कोशिश को तो पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया। बहराइच में जुलूस रोक दिया गया। सुलतानपुर में प्रदर्शनकारियों ने शांतिपूर्ण ढंग से अपनी बातें रखीं, जबकि अमेठी, गोंडा, हरदोई व श्रावस्ती में बंद पूरी तरह बेअसर रहा। कानपुर और उसके आसपास में भी बंद का कोई खास असर नहीं रहा।

  

पूर्वांचल में आजमगढ़ के सरायमीर, अंबारी समेत अन्य इलाकों में एक पक्ष ने अपनी दुकानें बंद रखीं। मऊ के कोपागंज व घोसी में जुलूस निकाल रहे लोगों को पुलिस ने हिरासत में लिया। वाराणसी में दालमंडी समेत कुछ क्षेत्रों को छोड़कर सभी बाजार खुले रहे, लेकिन जौनपुर और चंदौली में बहुतायत बाजारों में बंदी का असर रहा। मीरजापुर, गाजीपुर, भदोही, सोनभद्र व बलिया में कोई असर नहीं हुआ। देवरिया में सत्याग्रह करने जा रहे पूर्व सांसद आस मोहम्मद व उनकी पत्नी को पुलिस ने रोक लिया और कोतवाली ले आई। वे वहां करीब छह घंटे रहे। शाम चार बजे पुलिस उनको अपने वाहन से घर छोड़ा। 

पश्चिमी उत्तर प्रदेश में भी छिटपुट दुकानें बंद रहीं। सहारनपुर में हंगामा और पुलिस से धक्का-मुक्की की गई। यहां 12 लोगों को हिरासत में लिया गया है। मुजफ्फरनगर और बिजनौर में भीम आर्मी के जिलाध्यक्षों को हिरासत में लिया गया। बरेली, आगरा, फीरोजाबाद व शाहजहांपुर में कुछ जगहों पर दुकानें बंद रहीं, लेकिन बदायूं, मैनपुरी, एटा व पीलीभीत जिले में बंद का असर नहीं रहा। पीलीभीत में एहतियात के तौर पर बहुजन क्रांति मोर्चा के पदाधिकारियों को हिरासत में लिया गया था।

सीतापुर में बंदी का मिला-जुला असर 

भारत बंद का सीतापुर में मिला-जुला असर देखने को मिल रहा है। शहर की बात करें तो पुराने सीतापुर के इलाके में दुकानें बंद हैं। बाकी, शहर में स्थिति सामान्य है। इसके अलावा ग्रामीण क्षेत्रों के कुछ इलाकों में भी बाजार बंद है। पुराने सीतापुर में पुलिस फोर्स तैनात है। सीओ सिटी योगेंद्र सिंह के साथ पुलिस बल सुरक्षा व्यवस्था का जायजा ले रहे हैं।

सुल्तानपुर में पुलिस ने किया रूट मार्च, धारा 144 लागू 

सुल्तानपुर के भारत बंद के आवाहन को देखते हुए जनपद में कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए डीएम सी इंदुमती, पुलिस अधीक्षक शिवहरी मीणा, अपर जिला मजिस्ट्रेट( प्रशासन) हर्ष देव पांडे, अपर पुलिस अधीक्षक शिवराज तथा उप जिलाधिकारी सदर रामजी लाल सहित भारी संख्या पुलिस बल के साथ शहर के प्रमुख मार्गों पर रूट मार्च किया। अधिकारियों ने जनपद में अमन शांति बनाए रखने के साथ सभी दुकान खोले जाने की बात कही। उन्होंने पांच से अधिक व्यक्ति को एकत्र न होने की अपील की। जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक ने शहरवासियों से अपील की कि यदि कोई भी व्यक्ति किसी को परेशान करता है अथवा कानून व्यवस्था भंग करने का प्रयास करता है तो उसके खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाएगी। जिला प्रशासन एवं पुलिस प्रशासन आमजन के साथ है। जिले में धारा 144 लागू है। 

बहराइच में मिलाजुला असर

बहराइच में भी भारत बंद का मिलाजुला असर देखने को मिला। शहर में बिसातखाना, किराना बाजार में दुकानें बंद हैं। बाकी, शहर में स्थिति सामान्य है। शहर में पुलिस फोर्स तैनात है। एएसपी सिटी पुलिस फोर्स के साथ सुरक्षा व्यवस्था का जायजा ले रहे हैं।

लखनऊ में रोजाना की तरह खुली दुकानें 

लखनऊ के यहियागंज के वरिष्ठ महामंत्री लखनऊ व्यापार अमरनाथ मिश्र ने बताया कि बाजार पूरी तरह खुला रहेगा। भारत बंद का यहां कोई असर नहीं रहेगा। वहीं, यूपी स्‍टेट प्रजिटेंट बुलियन अनुराग रस्‍तोगी के मुताबिक, हमारी तरफ से भी किसी तरह का कोई विराध व्‍यक्‍त नहीं किया जाएगा। बाजार खुले हैं, रोज की तरह काम चलेगा। उधर, अमीनाबाद व्यापार मंच, अमीनाबाद संघर्ष समिति के पदाधिकारी अनिल बजाज व इंदिरानगर के देवेंद्र गुप्‍ता का भी यही कहना है कि बाजार खुले हैं। 

गोरखपुर में कोई असर नहीं

भारत बंद का गोरखपुर में कोई असर नहीं पड़ा। सुबह अपने निर्धारित समय से दुकानें खुलीं। बंदी को लेकर शहर में कहीं कोई हलचल तक भी नहीं दिखी। हलांकि एक दिन पहले बंदी के समर्थन में पर्चे बांटे गए थे। एसपी सिटी डॉ. कौस्तुभ ने बताया कि शहर में चिन्हित किए गए हॉट स्पाट पर फोर्स तैनात कर दी गई है। मोबाइल दस्ते के साथ सीओ व थानेदार गश्त कर रहे हैं। पर्चे बांटने वालों के बारे में जानकारी जुटाई जा रही है।

बंद का ब्रज में खास असर नहीं 

सीएए व एनआरसी के विरोध में बहुजन क्रांति मोर्चा के भारत बंद के आह्वान का ब्रज में असर नहीं है। आगरा के राजपुर चुंगी के बाजार में नो एनआरसी, नो सीएए के होर्डिंग्स लगाए गए हैं, जबकि कई बाजार में बंद का असर नहीं है। फीरोजाबाद में बंद का असर नहीं दिखाई दिया। उधर, कासगंज में मुस्लिम समुदाय के लोगों ने अपने प्रतिष्ठान बंद रखे हैं। मथुरा, मैनपुरी व एटा में खास असर नहीं है।

पूर्वांचल में मुस्लिम बहुल क्षेत्रों में असर

पूर्वांचल यानी वाराणसी में सीएए के विरोध में भारत बंद को लेकर प्रशासन और प्रदर्शनकारी कई जगहों पर आमने सामने आ गए। हालांकि, पुलिस प्रशासन ने सभी को वापस लौटाते हुए कानून व्‍यवस्‍था का हवाला भी दिया। इस दौरान मऊ और आजमगढ़ आदि जिलों के मुस्लिम बहुल इलाकों में बाजार बंदी रही और कारोबारियों ने अपनी दुकानें बंद कर विरोध प्रदर्शन में भी हिस्‍सा लिया।

भारत बंद का अलीगढ़ में मिला जुला असर

भारत बंद के आह्वान का अलीगढ़ में मिला जुला असर है। मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्र ऊपर कोट में दुकानें बंद हैं। रेलवे रोड बाजार में  अन्य दिनों की तरह भीड़ नहीं है। कुछ दुकानें बंद हैं। सुरक्षा की दृष्टि से पुलिस तैनात है।

हापुड़ में महिलाओं ने निकाला जुलूस

भारत बंद का जनपद में मिला जुला असर रहा। मुस्लिम क्षेत्रों में प्रतिष्ठान बंद रहें। महिलाओं ने चंद्रलोक कॉलोनी से मोदीनगर रोड तक जुलूस निकाला। इस दौरान महिलाओं ने सीएए कानून वापस लेने और इवीएम द्वारा चुनाव प्रक्रिया का विरोध किया। महिलाओं ने राष्ट्रपति के नाम नायब तहसीलदार को ज्ञापन सौपा। बता दें कि सीएए के विरोध में भारत बंद का आह्वान किया गया था। हालांकि, सूचना के चलते पुलिस प्रशासन पहले से क्षेत्र में अलर्ट था। सुबह से सार्वजनिक स्थानों एवं मिश्रित आबादी वाले क्षेत्र में पुलिस मुस्तैद हो गई। 

मेरठ में मिलाजुला असर, सहारनपुर में पुलिस ने जुलूस रोका

भारत बंद के आह्वान का मेरठ, सहारनपुर समेत आसपास के जिलों में मिला जुला असर है। मुस्लिम बहुल सोतीगंज बाजार बंद है जबकि आसपास के बाजार खुले हैं। सहारनपुर में भी मिला जुला असर देखने को मिल रहा है। शहर के खाताखेड़ी मे बिना अनुमति के सीएए के खिलाफ जुलूस निकाल रहे लोगों को पुलिस ने रोका तो हंगामा हो गया। पुलिस के साथ नोकझोंक हुई। पुलिस ने जुलूस को रोक दिया। कुछ बाजार बंद हैं तो कुछ खुले हैं। 

रायबरेली में मुस्लिम बाहुल्य इलाके में बंदी का असर

रायबरेली में देश के विभिन्न संगठनों द्वारा भारत बंद के आह्वान के बाद जिले के मुस्लिम बाहुल्य इलाके में बंदी का असर दिखा। शहर के कहारों के अड्डे, किले बाजार, खिन्नी तल्ला, चिड़िया खाना सहित कई जगह दुकानें बंद रहीं। भारी फोर्स जगह-जगह मौजूद। पीएसी भी लगाई गई। सिटी मजिस्ट्रेट समेत कई थानों की फोर्स तैनात हैं। वहीं, सब्जी मंडी के 70 फीसदी दुकानें खुली।

मुरादाबाद में बाजार बंद, ईदगाह मैदान में धरना 

विरोध में मुरादाबाद, अमरोहा में बाजार बंद रहें। एहतियात के तौर पर विभिन्न जगहों पर पुलिस की तैनाती की गई है। मुरादाबाद में करूला आबिद नगर, तहसील स्कूल, चौकी हसन खा, दीवान का बाजार, किसरौल, दौलत बाग, नवाबपुरा, लालबाग, मुफ्ती टोला, जीआइसी, नई सड़क आदि मुहल्लों में दुकानें बंद रहीं। विरोध स्वरूप लोगों ने ईदगाह में धरना शुरू कर दिया है कुछ लोग लाल मस्जिद में भी धरना दे रहे हैं। विरोध प्रदर्शन शुरू होने पर जिला प्रशासन में खलबली मच गई। मजिस्ट्रेट और पुलिस अधिकारी सुरक्षा के मद्देनजर विभिन्न सेक्टरों में पहुंच गए। एसपी सिटी अमित आनंद भारी पुलिस बल के साथ ईदगाह के मैदान पहुंचे। 

बरेली में बंद का कोई असर नहीं, काली पट्टी बांटते तीन युवक गिरफ्तार 

बंदी का बरेली में कोई असर नहीं, सभी बाज़ार खुले हैं। पीलीभीत और बदायूं में भी कोई विरोध या बंद नहीं। शाहजहांपुर के तिलहर कस्बे में मुस्लिम क्षेत्र की दुकानें बंद रहीं। आंदोलन के नेतृत्व के लिये कोई सामने नहीं आया। इस दौरान काली पट्टी बांटते तीन युवकों को पुलिस ने पकड़ा है।

Posted By: Divyansh Rastogi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस