गोरखपुर, जेएनएन। उत्‍तर प्रदेश के पूर्वी क्षेत्र की राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की बैठक इस बार गोरखपुर में होने जा रही है। बैठक में स्वयंसेवकों में जोश भरने के लिए सर संघचालक मोहन भागवत भी मौजूद रहेंगे। बैठक का आयोजन 24 से 27 जनवरी के बीच होगा लेकिन सर संघचालक की मौजूदगी 25-26 जनवरी को ही रहेगी। बैठक में हिस्सा लेने के लिए वह 24 जनवरी की शाम गोरखपुर पहुंचेंगे।

संगठन की कार्ययोजना पर होगा विचार

बैठक में गोरक्ष, कानपुर, काशी और अवध प्रांत के सभी प्रचारक, क्षेत्रीय और प्रांत कार्यकारिणी के सदस्य हिस्सा लेंगे। सह कार्यवाह और उत्तर प्रदेश के प्रभारी दत्तात्रैय होसबोले की मौजूदगी भी महत्वपूर्ण होगी। इस वार्षिक बैठक में संगठन की कार्ययोजना और कार्यान्वयन पर विचार-विमर्श होगा। बैठक में एक दिन आरएसएस के अनुषांगिक संगठनों जैसे विश्व हिंदू परिषद, विद्यार्थी परिषद, संस्कार भारती आदि को भी आमंत्रित किया जाएगा। यह संगठन अपने सांगठनिक उपलब्धियों और कार्ययोजना की जानकारी देंगे। इसे लेकर आरएसएस और अनुषांगिक संगठनों में जोरशोर से तैयारी शुरू हो गई है। बैठक में 300 से अधिक स्वयंसेवकों के शामिल होने की संभावना है।

चार साल के अंतराल पर गोरखपुर में हो रही बैठक

बैठक का आयोजन पूर्वी क्षेत्र में आने वाले सभी चार प्रांतों में बारी-बारी से होता है। गोरखपुर में इसका आयोजन चार साल के अंतराल पर होने जा रहा है। 2015 में बैठक का आयोजन गोरखपुर के संस्कृति पब्लिक स्कूल में हुआ था। उस बैठक में सर संघचालक मोहन भागवत की मौजूदगी रही थी। पिछली बैठक काशी प्रांत के अंतर्गत बीते वर्ष प्रयागराज में हुई थी।

तीन साल बाद गोरखपुर आ रहे हैं संघ प्रमुख

इससे पहले संघ प्रमुख मोहन भागवत 2016 में गोरखपुर आए थे, जब उन्होंने भाईजी हनुमान प्रसाद पोद्दार पर आयोजित संगोष्ठी को गीता वाटिका में संबोधित किया था। 2014 में भी संघ प्रमुख का गोरखपुर प्रवास हुआ था। तब उन्होंने बिलंदपुर खत्ता में आयोजित आरएसएस के प्रशिक्षण शिविर में बतौर मुख्य अतिथि संबोधित किया था।

Posted By: Pradeep Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस