जागरण संवाददाता, जयपुर। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शुक्रवार को दिल्ली की तिहाड़ जेल में बंद पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री पी. चिदंबरम से मुलाकात की। इस दौरान चिदंबरम के बेटे कीर्ति चिदंबरम भी मुख्यमंत्री के साथ थे। चिदंबरम से मुलाकात के बाद गहलोत ने कहा कि हम उम्मीद करते हैं कि उन्हें जल्द ही जमानत मिलेगी। चिदंबरम पर कोई केस है ही नहीं, उन्हें षड्यंत्र करके जेल में बंद किया गया है।

उन्होंने कहा कि बिना किसी केस और आरोप के अपनी बेटी की हत्या के आरोप में जेल में बंद इंद्राणी मुखर्जी की गवाही के आधार पर चिदंबरम को जेल में बंद कर दिया गया है। पूरा देश यह सब देख रहा है और एनडीए सरकार को इसके नतीजे भुगतने पड़ेंगे। लोकतंत्र की हत्या की जा रही है। गहलोत ने दिल्ली में मीडिया से बात की और जयपुर में उनका बयान जारी किया गया। उन्होंने कहा कि चिदंबरम को सुप्रीम कोर्ट एक मामले में जमानत दे चुका हैं, इसके बाद दूसरे केस में भी वहीं बातें रखी जाती हैं। इस तरह से देश में लोकतंत्र की हत्या की जा रही है ।

गहलोत ने कहा कि मैं जब चिदंबरम से मिला तो उन्हें आज भी देश की चिंता है। हम जब बात कर रहे थे तो देश जो स्लोडाउन हुआ है, मंदी का जोर चल रहा है उस पर चिदंबरम चिंतित थे। देश का एक्सपोर्ट कम हो रहा है, इन सब बातों पर चिदंबरम जेल में बैठे-बैठे चिंता कर रहे हैं। गहलोत ने कहा कि चिदंबरम ने 45 साल तक देश की सेवा की है, उसका एनडीए सरकार ने यह इनाम दिया है। हम दोनों 25 साल पहले पीवी नरसिंहाराव सरकार में एक साथ मंत्री थे। उस समय से चिदंबरम को देश की चिंता करते हुए देख रहा हूं। गहलोत ने कहा कि विभिन्न राज्यों में 80 से ज्यादा लोगों पर केस दर्ज हो चुके हैं। राज्यों में नेताओं पर केस बनाए जाने की में प्रधानमंत्री कार्यालय मॉनिटरिंग करता है, टारगेट तय किए जाते हैं। टेलीफोन पर बातचीत करते हुए भी लोग डरते हैं।

पीएम मोदी पर भी साधा निशाना

सीएम गहलोत ने कहा कि मोदी आज जिस प्रकार से अनुच्छेद-370 की बात करते हैं, कभी सर्जिकल स्ट्राइक की बात करते हैं, चुनाव कल है आज सर्जिकल स्ट्राइक हो रही है तो यह देश मूर्ख नहीं है, यह देश बहुत समझदार है। सरकार चुनाव जीतने के लिए हथकंडे अपना रही है। हिंदुत्व के नाम पर, धारा 370 के नाम पर, सर्जिकल स्ट्राइक के नाम पर। देश के लोग समझते हैं। पाकिस्तान की आतंकी गतिविधियों को नेस्तनाबूद करने के लिए पूरा मुल्क मोदी के साथ खड़ा है। हरियाणा और महाराष्ट्र के चुनाव परिणाम सबके सामने हैं। राजस्थान की दो सीटों पर उपचुनाव में कांग्रेस एक सीट पर जीती और दूसरी सीट पांच हजार से भी कम वोटों से हारी है। 

राजस्थान की अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस