जयपुर, जागरण संवाददाता।CAA in Rajasthan: राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) के खिलाफ केरल की तर्ज पर राज्य विधानसभा में प्रस्ताव पारित कराने पर विचार कर रही है। इसके साथ ही राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) का विरोध करने की बात भी विधानसभा में सरकार की तरफ से कही जाएगी।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के निर्देश के बाद राज्य के संसदीय कार्यमंत्री शांति धारीवाल इस बारे में प्रमुख विधि विशेषज्ञों एवं संसदीय मामलों के जानकारों से विचार-विमर्श कर रहे हैं। खुद गहलोत ने पिछले दिनों दिल्ली में इस मुद्दे पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं के साथ चर्चा की थी। कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से भी उनकी बातचीत हुई बताई। गहलोत शुरू से ही सीएए और एनआरसी के खिलाफ खुलकर बोलते रहे हैं। इन दोनों मुद्दों पर राज्य मंत्रिपरिषद की अगली बैठक में भी चर्चा होगी।

उल्लेखनीय है कि राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) के खिलाफ केरल की तर्ज पर राज्य विधानसभा में प्रस्ताव पारित कराने पर विचार कर रही है। इसके साथ ही राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) का विरोध करने की बात भी विधानसभा में सरकार की तरफ से कही जाएगी।

उल्लेखनीय है कि केरल की लेफ्ट डेमोक्रेटिक गठबंधन सरकार ने सीएए के खिलाफ विधानसभा में प्रस्ताव पारित कर इसका विरोध जताया है। साथ ही संकल्प जताया कि राज्य सरकार इसे लागू नहीं करेगी। हालांकि कानून के जानकारों का कहना है कि इसकी वैधता नहीं है। लेकिन फिर भी गहलोत सरकार विधानसभा में प्रस्ताव पारित कराने पर विचार कर रही है। उधर सरकार की मंशा की जानकारी मिलते ही भाजपा ने अपनी रणनीति बनाना शुरू कर दिया है। भाजपा विधायक दल की रणनीति बनाने का काम उप नेता राजेंद्र राठौड़ कर रहे हैं। 

यह भी पढ़ेंः जानें, जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल में इस बार कौन-कौन करेगा शिरकत

यह भी पढ़ेंः राजस्थान चुनाव ड्यूटी के दौरान मृत्यु होने पर कार्मिक को त्वरित आर्थिक सहायता

Posted By: Preeti jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस