गाजियाबाद, जेएनएन। देश के नामी संस्थानों में शुमार राजनगर स्थित आइएमटी (Institute of Management & Technology, Ghaziabad) पर जल्द ही केंद्रीय जांच एजेंसी (Central Bureau of Investigation) का शिकंजा कस सकता है। दरअसल, दिल्ली से सटे उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में स्थित आइएमटी पर अवैध रूप से जमीन कब्जाने का आरोप है। मिली जानकारी के मुताबिक, उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को जमीन कब्जाने के प्रकरण की बाबत सीबीआइ जांच कराने के लिए पत्र लिखा है।

इससे पहले चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय ने इसको लेकर चार सदस्यीय जांच समिति गठित कर जांच बिठाई है। इसके तहत भी जांच की जा रही है। आइएमटी संस्थान पर आरोप है कि लाजपत राय स्मारक महाविद्यालय सोसायटी को हॉस्टल बनाने के लिए जमीन आवंटित हुई थी, लेकिन यहां पर आइएमटी संस्थान बना दिया गया।

बताया जा रहा है कि गाजियाबाद विकास प्राधिकरण (Ghaziabad development Authority) की जांच में दस हजार वर्ग मीटर जमीन पर अवैध कब्जा होने की पुष्टि हो चुकी है। यह पूरा प्रकरण मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ से जुड़ गया है, क्योंकि उनके बेटे बकुल नाथ इस संस्थान के प्रेसीडेंट हैं।

दरअसल, कानपुर में जन्मे और पश्चिम बंगाल में कारोबार करने वाले व्यापारी परिवार से आने वाले कमलनाथ खुद में एक बिज़नेस टायकून हैं, उनका कारोबार रियल एस्टेटस, एविएशन, हॉस्पिटलिटी और शिक्षा तक फैला है। देश के शीर्ष प्रबंधन संस्थान आइएमटी गाज़ियाबाद के डायरेक्टर सहित करीब 23 कंपनियों के बोर्ड में कभी कमलनाथ भी शामिल रहे हैं। फिलहाल ये कारोबार उनके दो बेटे नकुलनाथ और बकुल नाथ संभालते हैं।

मिली ताजा जानकारी के मुताबिक, इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट टेक्नोलॉजी (आईएमटी) के एक हिस्से पर जीडीए कब्जा लेने की तैयारी में है। दरअसल, निगम पार्षद राजेंद्र त्यागी के एलआर कॉलेज की जमीन पर आईएमटी कॉलेज का निर्माण व अधिक भूमि पर अवैध कब्जे के आरोपों के बाद जीडीए ने मामले की जांच को कमेटी का गठत किया था।

बताया जा रहा हैकि जीडीए सचिव संतोष कुमार राय की अध्यक्षता में बनी कमेटी के सामने IMT प्रबंधन  अतिरिक्त कब्जा की गई 10841 वर्ग मीटर जमीन आवंटन के साक्ष्य प्रस्तुत नहीं कर सका है। इसके बाद कमेटी ने आइएमटी के 10841 वर्ग मीटर के पास किए गए नक्शे को रद्द कर एक हिस्से पर कब्जा लेने के आदेश जारी किया है।

यह है पूरा मामला
भाजपा पार्षद राजेंद्र त्यागी की मानें तो IMT कॉलेज एलआर पीजी कॉलेज की जमीन पर बना है। ऐसे में प्रशासन भी लपेटे में है, क्योंकि राजनगर में जिस 15 एकड़ जमीन पर आईएमटी गाजियाबाद बना है, उसी जमीन पर एलआर कॉलेज को सीसीएसयू ने स्थायी मान्यता दी है। यह जमीन एलआर पीजी कॉलेज के नाम से सीसीएसयू में अब तक बंधक है। उन्होंने इसकी शिकायत राज्यपाल व मुख्यमंत्री से करते हुए कैग और सीबीआई से जांच की मांग की थी। बता दें कि भाजपा पार्षद के आरोपों के बाद जीडीए उपाध्यक्ष कंचन वर्मा ने जीडीए सचिव की अध्यक्षता में जांच कमेटी गठित की थी।

दिल्ली-NCR की ताजा खबरों को पढ़ने के लिए यहां पर करें क्लिक

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: JP Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस