गाजियबाद/लोनी जागरण संवाददाता। बलराम नगर कॉलोनी स्थित कार्यालय में खाद्य सुरक्षा अधिकारी की पिटाई के मामले में लोनी विधायक और उनके 12 साथियों के खिलाफ लोनी पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर ली है। मारपीट, जान से मारने की धमकी देने, सरकारी काम में बाधा डालने आदि का आरोप विधायक पर लगा है। हालांकि विधायक ने मामले को राजनीति से प्रेरित बताते हुए रिपोर्ट दर्ज होने के पीछे उनकी पार्टी के ही एक आला पदाधिकारी का हाथ बताया है।

बता दें कि बुधवार दोपहर खाद्य सुरक्षा अधिकारी आशुतोष सिंह ने आरोप लगाया था कि विधायक प्रतिनिधि ललित शर्मा ने उन्हें बलराम नगर कॉलोनी स्थित विधायक नंदकिशोर गुर्जर के कैंप कार्यालय पर बुलाया था। जहां लोनी विधायक द्वारा उनके साथ मारपीट की गई थी। साथ ही उनका और चालक का फोन भी तोड़ दिया गया था। पीड़ित ने देर शाम एसपी देहात नीरज जादौन से शिकायत की थी। एसपी देहात के आदेश पर लोनी विधायक, प्रतिनिधि ललित शर्मा, सचिन और 10 अज्ञात लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की गई है। वहीं, लोनी बार्डर थाना प्रभारी निरीक्षक शैलेंद्र प्रताप सिंह का कहना है कि मामले की जांच की जा रही है। जांच के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

विधायक ने राजनीति से बताया प्रेरित

विधायक नंदकिशोर गुर्जर का कहना है कि उन्होंने खाद्य सुरक्षा अधिकारी को नहीं बुलाया बल्कि वह खुद ही उनके कार्यालय में आए। ऐसे में उन्होंने कैसे उनके कार्य में बाधा डाली। मारपीट और अन्य सभी आरोप झूठे हैं। भाजपा के ही एक आला पदाधिकारी उनके खिलाफ एफआइआर करवा रहे हैं। हालांकि भ्रष्टाचार और रिश्वतखोरी के खिलाफ उनकी लड़ाई जारी रहेगी।

बार एसोसिएशन ने निष्पक्ष जांच कराने की मांग की

लोनी के विधायक और खाद्य सुरक्षा अधिकारी के विवाद में बार एसोसिएशन ने मुकदमे की कार्रवाई से पहले निष्पक्ष जांच कराने की मांग की है। एसोसिएशन ने आरोप लगाया कि विधायक ने अधिकारी पर क्षेत्र में चल रहे एक होटल से अवैध उगाही करने का आरोप लगाया था। इसी वजह से अधिकारी ने फर्जी आरोप लगाकर थाने में शिकायत दी है। बार एसोसिएशन ने बृहस्पतिवार को जिलाधिकारी को ज्ञापन दिया। अधिवक्ताओं ने बताया कि लोनी के विधायक नंदकिशोर गुर्जर ने क्षेत्र में चले रहे एक ढाबे पर मीट बेचने की शिकायत की थी। एसोसिएशन अध्यक्ष सुनील दत्त त्यागी और सचिव विजय गौड़ ने बताया कि खाद्य अधिकारी ने थाने में फर्जी मुकदमा कराया है।उन्होंने जिलाधिकारी से मांग की कि इस मामले में शिकायत की पहले निष्पक्ष जांच कराई जाए।

मीडियाकर्मियों ने भी लगाए थे आरोप

लोनी विधायक का कार्यालय पूर्व में भी विवाद में रहा है। करीब दो माह पूर्व कुछ मीडियाकर्मी उनके कार्यालय पर शिकायत करने पहुंचे थे। वहां दो मीडियाकर्मियों के साथ नकाबपोश युवकों ने मारपीट की थी। इसको लेकर विधायक ने मीडिया कर्मियों के आपस में लड़ने की बात कही थी।

दिल्ली-एनसीआर की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां पर करें क्लिक

Posted By: JP Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस