नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। दिल्ली की नवगठित सातवीं विधानसभा का पहला सत्र आगामी 24 फरवरी से शुरू होगा। यह सत्र तीन दिनों तक चलेगा। सत्र के दौरान नवनिर्वाचित विधायकों को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई जाएगी। 26 फरवरी तक चलने वाले इस सत्र के पहले दिन सबसे वरिष्ठ एवं अनुभवी विधायक को प्रोटेम स्पीकर बनाया जाएगा जो सभी विधायकों को शपथ दिलाएगा। सूत्रों की मानें तो प्रहलाद सिंह साहनी को प्रोटेम स्पीकर बनाया जा सकता है।

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली सचिवालय में आयोजित प्रेसवार्ता के दौरान बताया कि बुधवार को उनकी कैबिनेट की पहली बैठक हुई है। कैबिनेट ने विधानसभा के तीन दिवसीय सत्र का अनुमोदन कर दिया है। सत्र के पहले दिन उपराज्यपाल अनिल बैजल प्रोटेम स्पीकर को शपथ दिलाएंगे फिर प्रोटेम स्पीकर सभी विधायकों को शपथ दिलाएंगे। 25 फरवरी को उपराज्यपाल का भाषण होगा और 26 पर इस भाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव आएगा। उपराज्यपाल अपने भाषण में दिल्ली के विकास एवं सरकार की योजनाओं के बारे में अपने विचार रखेंगे। इसमें सरकार के अगले पांच साल की योजनाओं का खाका होगा।

वहीं धन्यवाद प्रस्ताव में विधायक अपने-अपने विचार रखेंगे। इस दौरान आपसी सहमति से विधानसभा अध्यक्ष एवं उपाध्यक्ष का चुनाव होगा। दिल्ली विधानसभा में इस बार आम आदमी पार्टी (आप) के 62 और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के 8 विधायक हैं तो वहीं कांग्रेस का खाता भी नही खुल पाया है।

आम आदमी पार्टी की सरकार के पिछले कार्यकाल में रामनिवास गोयल विधानसभा अध्यक्ष रहे हैं। उन्होंने विधानसभा में कई बड़ी योजनाओं पर काम किया है। इनमें विधानसभा को पेपरलेस किए जाने की योजना भी शामिल है, जिस पर काम किया जा रहा है।

बता दें कि प्रह्लाद सिंह साहनी चांदनी चौक विधानसभा सीट से विधायक चुने गए हैं। उन्होंने यहां से अलका लांबा को हराया है, पहले इस सीट से अलका लांबा विधायक थीं लेकिन मतभेदों के चलते उन्होंने AAP को अलविदा कह दिया।

Posted By: JP Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस