नई दिल्ली, जेएनएन। Delhi Election Results 2019: देशभर के निगाहें 23 मई को आने वाले लोकसभा चुनाव के नतीजों पर रहेंगी। ऐसे में देश की राजधानी दिल्ली में कुल सात लोकसभा सीटों पर उतरे 164 उम्‍मीदवारों में कौन 7 भाग्यशाली होंगे? इसके लिए काउंटडाउन शुरू हो चुका है। 

पुलिस अधिकारी के मुताबिक सुबह आठ बजे मतगणना शुरू हो जाएगी। दिल्ली पुलिस द्वारा इन सभी केंद्रों पर सुरक्षा के लिए पुख्ता इतंजाम कर लिए गए हैं। वहां स्थानीय पुलिस के अलावा दिल्ली सशस्त्र पुलिस, यातायात पुलिस, संचार शाखा, विशेष शाखा, पीसीआर कर्मियों के साथ ही अर्धसैनिक बल के जवानों को तैनात किया जाएगा। इस दौरान कर्मियों को केंद्र के समीप मौजूद भीड़ को नियंत्रित रखने के निर्देश दिए गए हैं। किसी भी तरह की आपात स्थिति में उपद्रवियों के खिलाफ कड़ा रुख अपनाया जाएगा। इस दौरान वहां कोई गड़बड़ी न फैले इसलिए केंद्र के अंदर और बाहर पुख्ता सुरक्षा व्यवस्था की गई है।

इस बीच मतगणना के दौरान हिंसा की आशंका के मद्देनजर दिल्ली पुलिस ने 23 मई के लिए हाई अलर्ट जारी किया है। मतगणना केंद्र के अलावा तनाव संबंधित इलाके में 8 हजार दिल्ली पुलिस और अर्ध सैनिक बलों के जवान तैनात किए जाएंगे। गृह मंत्रालय के निर्देश के बाद दिल्ली पुलिस मुस्तैद है।

किसी भी परिस्थिति से निपटने की व्यवस्था चुनाव आयोग ने की है। मतगणना में किसी भी दल के द्वारा उत्पन्न व्यवधान को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। चुनाव आयोग द्वरा जारी प्रवेश पत्र के बगैर किसी को मतदान केंद्र में प्रवेश की अनुमति नहीं होगी। मतगणना केंद्र के बाहर गर्मी को देखते हुए शेड की भी व्यवस्था की गई है।

दिल्ली के मुख्य निर्वाचन अधिकारी डॉ. रणबीर सिंह ने बताया कि सात लोकसभा सीटों के लिए मतगणना केंद्र भी सात ही बनाए गए हैं। यहां सुबह आठ बजे से कड़ी सुरक्षा के बीच मतों की गिनती शुरू हो जाएगी। किसी सीट पर 15 राउंड की मतगणना होगी तो किसी सीट पर 30 राउंड की। अनुमान है कि अधिकतम शाम पांच बजे तक सभी सीटों की ईवीएम मतगणना पूरी हो जाएगी। इसके बाद वीवीपैट की पर्चियों का मिलान किया जाएगा। इस प्रक्रिया के पूरी होने में रात 10 से 12 बज सकते हैं।

दिल्ली के 164 उम्‍मीदवारों में 18 महिलाएं भी हैं, जिनमें शीला दीक्षित (कांग्रेस), मीनाक्षी लेखी (भाजपा) और आतिशी (आम आदमी पार्टी) शामिल हैं। ऐसे में इन तीनों पर सभी की नजरें रहेंगी। 

गौरतलब कि 1951-1956 तक दिल्ली में सिर्फ तीन लोकसभा सीट होती थीं, जिनमें दिल्ली सिटी, नई दिल्ली और बाहरी दिल्ली की सीटें शामिल थीं। इसके बाद 1956-1961 में दिल्ली में चार लोकसभा सीट हो गईं। इनमें नई दिल्ली, बाहरी दिल्ली, चांदनी चौक और दिल्ली सदर की सीट शामिल थी. 1961-1966 में दिल्ली में लोकसभा की पांच सीटें थीं। फिलहाल दिल्ली में कुल सात सीटें (नई दिल्ली, पूर्वी दिल्ली, पश्चिमी दिल्ली, दक्षिणी दिल्ली, उत्तरी पूर्वी दिल्ली, उत्तरी पश्चिमी दिल्ली और चांदनी चौक) हैं।

दिल्ली-NCR की ताजा खबरों को पढ़ने के लिए यहां पर करें क्लिक

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: JP Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस