उन्नाव, जेएनएन। बड़े भाई कुलदीप के लगातार चौथी बार विधायक चुने जाने के साथ समाजवादी पार्टी नेतृत्व से बगावत कर भाभी संगीता को जिला पंचायत अध्यक्ष बनवाने में भी मनोज सिंह सेंगर की अहम भूमिका रही। रावण की पूजा करने वाले मनोज को खुद को लंकेश कहलाना पसंद था।

कुलदीप सिंह सेंगर के लगभग सभी चुनाव में विधायक के अलावा चुनाव प्रचार के दौरान मनोज का दबंग चेहरा अलग से प्रचार में जुटता था, या फिर यह कहें कि जो सामान्य रूप से नही साथ आता उसे समर्थन के लिए तैयार करने की जिम्मेदारी मनोज सिंह सेंगर की होती थी।

उन्नाव में ग्राम प्रधान से चार बार विधायक चुने जाने तक अजेय रहे कुलदीप सिंह सेंगर जहां जिले की राजनीति में खुद में चमकने के लिए सत्ता बल का प्रयोग करते थे तो दूसरी तरफ मनोज सिंह सेंगर ने अपने दबदबे से वाहन अड्डों पर वसूली, खनन और जमीन के कारोबार में अपना सिक्का जमा रखा था, जायज या नाजायज जिस भी कारोबार से लंकेश का नाम जुडऩे के बाद किसी की उसमें हाथ डालने की हिम्मत न होती थी।

भाभी को जिले का प्रथम नागरिक बनाने में रहा अहम योगदान

विधायक कुलदीप सिंह की पत्नी को पहले जिला पंचायत सदस्य और फिर जिला पंचायत अध्यक्ष बनाने में अन्य लोगों के अलावा मझले भाई मनोज सेंगर का अहम योगदान रहा। इसी कारण से हमेशा विधायक से दूर दिखने वाले मनोज चुनाव के दौरान पूरे समय सबसे आगे मोर्चा लिए रहे और कैमरे में भी काफी नजर आए। विधायक ने भी उन्हें इसका श्रेय दिया।

जिला पंचायत की सत्ता से था बेहद लगाव

मनोज सेंगर सही भले जिला पंचायत में किसी पद पर न रहे हो लेकिन उनका उनका वर्चस्व पिछले करीब 20-25 सालों से लगातार रहा है । पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष कमल कुमारी के कार्यकाल में पर्दे के पीछे रहकर बादशाहत की । उसी दौरान अपने दबंग चेहरे के कारण लोगों के बीच चर्चा में काफी रहे।

मियागंज के ब्लाक प्रमुख भी रहे

पिछले पंचायत चुनाव में मनोज सिंह सेंगर ने विधायक भाई की सरपरस्ती में रहकर पहले मियागंज से बीडीसी का चुनाव जीता और फिर इसी ब्लाक के 2012-13 में ब्लाक प्रमुख निर्वाचित हुए।

नेपाल में भी कारोबार फैला होने की चर्चाएं

बताते हैं कि विधायक कुलदीप सेंगर के भाई मनोज का जिले में जो ईट भट्ठा, कोल्ड स्टोर, समेत कई कारोबार थे। इसके अलावा उनका पड़ोसी देश नेपाल में भी बड़ा कारोबार फैला था। इसकी आम चर्चा थी शायद इसी कारण से ही मनोज का अक्सर नेपाल में ही रहना होता था। 

Posted By: Dharmendra Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस