लखनऊ, जेएनएन। एशिया की सबसे बड़ी हथियारों की प्रदर्शनी में देश की रक्षा उत्पादन इकाइयों ने दुनिया को 'मेक इन इंडिया' की ताकत दिखाई तो 'मेक इन यूपी' का संदेश देने में योगी आदित्यनाथ सरकार की एक जिला एक उत्पाद योजना ने भी बड़ी भूमिका निभाई है।

डिफेंस इंडिया एक्सपो- 2020 में पाताल से आकाश तक छा जाने वाली तकनीक और हथियारों के बीच उत्तरप्रदेश के गली-मोहल्लों में बैठकर तरह-तरह के उत्पाद बनाने वाले कलाकारों-कामगारों के हुनर को मिली दाद व्यापारिक नतीजों के रूप में सामने है।

लखनऊ में रक्षा मंत्रालय की आवास विकास विभाग की वृंदावन योजना में पांच से नौ फरवरी तक आयोजित डिफेंस एक्सपो में 40 से अधिक देशों की रक्षा उत्पादन कंपनियों ने भाग लिया। भारत सहित इन देशों ने अपने-अपने अत्याधुनिक हथियार और उपकरण यहां प्रदर्शित किए। इंडिया पैवेलियन की तरह ही उत्तर प्रदेश सरकार ने यूपी पवेलियन बनाया।

यहां सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यम (एमएसएमई) विभाग ने अलग से प्रदर्शनी लगाई, जिसमें एक जिला एक उत्पाद योजना के तहत चिन्हित उत्पादों के 65 स्टॉल लगाए गए। इसमें भदोही के कालीन, अलीगढ़ के हार्डवेयर उत्पाद, फीरोजाबाद के कांच के उत्पाद, आगरा के चमड़ा उत्पाद सहित सभी वह उत्पाद थे, जो जिलों को पहचान दिलाते हैं। पारंपरिक शैली और हुनर की इन वस्तुओं ने सैलानियों को उन अत्याधुनिक हथियारों के बीच भी खूब आकर्षित किया।

प्रमुख सचिव एमएसएमई डॉ. नवनीत सहगल ने बताया कि पांच दिन में एक लाख से अधिक सैलानी प्रदर्शनी में पहुंचे और उत्पाद देखे। कलाकारों द्वारा हाथ से बनाए जाने वाले उत्पाद खास तौर पर पसंद किए गए। उन्होंने बताया कि डिफेंस एक्सपो के दौरान करीब 45 लाख रुपये के उत्पादों की बिक्री हुई है। आगे भी इसका लाभ व्यापारियों को मिलने की संभावना है। 

Posted By: Dharmendra Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस