मंडी, जागरण संवाददाता । मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि मार्गदर्शन के बजाय अनिल शर्मा अपना मुंह बंद रखें। इसी में उनकी भलाई है। लोकसभा चुनाव में बेटा कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ रहा था तब पार्टी का काम नहीं किया, मगर अब क्या मजबूरी थी? अब तो बेटा चुनाव नहीं लड़ रहा था। बेहतर होता अब चुपचाप पार्टी का काम करते। भाजपा के नहीं तो कम से कम मंडी के तो बनते, मंडी ने आखिर सुखराम परिवार को क्या नहीं दिया। क्योंं विजन घर में दबा रखा है, उसे बाहर निकालो। बोल नहीं सकते तो कम से कम लिख कर दें। 

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने रविवार को नगर निगम मंडी की दौहंधी, मंगवाई, खलियार,थनेहड़ा, सन्यारढ़,पड्डल व पुरानी मंडी वार्ड में भाजपा प्रत्याशियों के पक्ष में चुनावी सभाएं करते हुए कहा कि पंडित सुखराम परिवार को साजिश रचने के अलावा कोई काम नहीं रह गया है। यह परिवार आज तक किसी से खुश नहीं हुआ। मंडी की जनता को बीच चौराहे में छोड़कर आराम से घर बैठ गए। अब जमीन पूरी तरह खिसकती देख छटपटा रहे हैं। प्रदेश के सभी हलकों में एक समान दृष्टि से विकास कार्य हो रहे हैं। क्या सराज व धर्मपुर में विकास कार्य बंद कर दें? प्रशासन ने शिवरात्रि महोत्सव का निमंत्रण दिया था। स्थानीय विधायक के नाते महोत्सव के आयोजन की जिम्मेदारी अनिल शर्मा पर थी तो फिर क्यों घर बैठे रहे।

----------------------- 

पार्टी का सिपाही हूं, घर-घर जाकर वोट मांगूगा

कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष कुलदीप ङ्क्षसह राठौर पर पलटवार करते हुए मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा वह पार्टी के सिपाही हैं। पार्टी की बदौलत इस पद तक पहुंचे हैं। नगर निगम का चुनाव पार्टी चिह्न पर हो रहा है। गली-गली क्या मैं घर-घर जाकर वोट मांग सकता हूं। कांग्रेस को क्यों पीड़ा हो रही है। मुझे कांग्रेस के सर्टिफिकेट की जरूरत नहीं है। सरकार ग्रामीण क्षेत्रों में खुशहाली चाहती है। कांग्रेस खुद को नगर निगम नहीं बना पाई, अब टैक्स के नाम पर लोगोंं को गुमराह कर रही है। सरकार पहले ही स्पष्ट कर चुकी है 2021 की जनगणना के आंकड़े आने के बाद निगमों में शामिल ग्रामीण क्षेत्र बाहर कर दिए जाएंगे।

सत्ता हाथ से निकलने से कांग्रेसी परेशान, मंच पर उलझने लगे 

जयराम ठाकुर ने भाजपा की ङ्क्षचता करने के बजाय कुलदीप ङ्क्षसह राठौर को अपना कुनबा संभालने की सलाह दी। उन्होंने कहा कि सत्ता हाथ से निकलने से कांग्रेसी परेशान हैं। अब मंच पर उलझने लगे हैं। कांग्रेसी अपना मन मजबूत कर लें, निगम के बाद 2022 के विधानसभा चुनाव में हार से बात दिल पर आ सकती है। 

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021