जागरण संवाददाता, कोलकाता। बंगाल सरकार और राज्यपाल जगदीप धनखड़ के रिश्तों में व्याप्त कड़वाहट के बीच मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने उन्हें अपने घर होने वाली कालीपूजा में आमंत्रित किया है। राज्यपाल ने भी कड़वाहट भुलाते हुए रविवार को सपत्नीक पूजा में शरीक होने की बात कही है।

राज्यपाल ने कहा- न्योता मिलने से बहुत खुश हूं

शनिवार को उत्तर 24 परगना जिले के बारासात में एक काली पूजा पंडाल का उद्घाटन करने के बाद पत्रकारों ने जब राज्यपाल से इस बाबत सवाल पूछा तो उन्होंने कहा-'न्योता मिलने से बहुत खुश हूं और उत्सुकता से पूजा में शामिल होने का इंतजार कर रहा हूं। आशा है मुझे यहां किसी और सवाल का जवाब देने की जरूरत नहीं है।'

जगदीप ने स्वीकार किया आमंत्रण, सपत्नीक होंगे शामिल

उन्होंने आगे कहा-'1978 से मुख्यमंत्री के कालीघाट स्थित आवास पर हर साल कालीपूजा का आयोजन होते आ रहा है और इसके लिए आमंत्रण मिलने से मैं अभिभूत हूं। मैंने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को पत्र लिखकर बताया था कि मैं और मेरी पत्नी भैया दूज के अवसर पर उनके घर आना चाहते हैं। इसके बाद उत्तर बंगाल की यात्रा से लौटकर मुख्यमंत्री ने मुझे पत्र लिखा और सपत्नीक काली पूजा में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया।' शनिवार को राजभवन की ओर से एक विज्ञप्ति जारी कर भी राज्यपाल के मुख्यमंत्री के घर काली पूजा में शामिल होने की पुष्टि की गई है।

गौरतलब है कि राज्यपाल शनिवार को बारासात के जिस क्लब में काली पूजा का उद्घाटन करने पहुंचे थे, उसके मुख्य संरक्षक और तृणमूल कांग्रेस नेता ने धनखड़ को आमंत्रित किए जाने पर अपने पद से इस्तीफा दे दिया था। इसे लेकर शुक्रवार को विवाद भी हुआ था।

राज्यपाल व मंत्रियों के बीच जुबानी जंग बनी थीं सुर्खियां

हाल के दिनों में राज्यपाल व राज्य के मंत्रियों के बीच जुबानी जंग सुर्खियों में रही हैं। जादवपुर विश्वविद्यालय से लेकर दुर्गा पूजा कार्निवल, जियागंज से लेकर प्रशासनिक बैठकों से अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों के नदारद रहने तक को लेकर राज्यपाल व राज्य सरकार में टकराव की तौर पर देखा गया है। इन सभी मामलों को लेकर राज्यपाल ने राज्य सरकार पर करारा हमला बोला। इसके जवाब में राज्य के मंत्रियों ने भी राज्यपाल पर पलटवार किया।

Posted By: Bhupendra Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस