लखनऊ, जेएनएन। Coronavirus : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि अगर 15 अप्रैल से लॉकडाउन खुलता है तो हालात बेहद चुनौतीपूर्ण होंगे। जो लोग जहां फंसे हैं, वे वहां से निकलने की कोशिश करेंगे। ऐसी परिस्थितियों में सोशल डिस्टेंसिंग का अनुपालन कराना चुनौतियों भरा काम होगा। उन्होंने शासन के वरिष्ठ अधिकारियों को अभी से इसकी कार्ययोजना तैयार करने को कहा है। स्कूल-कॉलेज, अलग-अलग बाजार व मॉल कब और कैसे खुलेंगे, इसकी कार्ययोजना बनाने के निर्देश दिए गए हैं।

कोरोना से निपटने के लिए शासन स्तर पर गठित 11 टीमों का नेतृत्व कर रहे वरिष्ठ अधिकारियों के साथ शुक्रवार को बैठक करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश के हर राजकीय मेडिकल कॉलेज में कोरोना वायरस की टेस्टिंग लैब स्थापित करने का निर्देश दिया। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि कोरोना से बचाव के लिए स्वास्थ्य कर्मियों और सफाई कर्मचारियों द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले पर्सनल प्रोटेक्शन इक्विपमेंट (पीपीई) सूट का निर्माण राज्य में ही किया जाए। साथ ही एनेस्थीसिया, फिजीशियन, गाइनोकोलॉजी और बाल रोग विशेषज्ञ चिकित्सकों की सूची तैयार कर उन्हें प्रशिक्षित करने के भी निर्देश दिए।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आयुष चिकित्सकों तथा पैरामेडिकल स्टाफ को भी ट्रेनिंग देने को कहा। उन्होंने महिला स्वयं सहायता समूहों द्वारा खादी के मास्क बनाए जाने पर बल दिया ताकि इसकी कमी पूरी होने के साथ महिलाओं को रोजगार भी मिल सके। साथ ही शेल्टर होम्स में सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ध्यान रखने और उनमें भोजन, पेयजल, दवा आदि की पूरी व्यवस्था के साथ सफाई व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए कहा। यह भी हिदायत दी कि कम्युनिटी किचेन में तैयार कराये गए भोजन को बांटने के लिए हर कोई न निकले बल्कि इसके लिए कलेक्शन सेंटर बनाये जाएं। वहां भोजन एकत्र कर बांटने के लिए ले जाया जाए। उन्होंने जिलाधिकारियों से समन्वय कर आंगनबाड़ी का पौष्टिक आहार घर-घर तक पहुंचाने की व्यवस्था करने के लिए कहा।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रदेश में सभी आवश्यक वस्तुओं की निर्बाध आपूर्ति सुनिश्चित की जाए। कहीं भी सप्लाई चेन में कोई रुकावट न आने पाए। किराना आदि की दुकानों में जरूरी वस्तुओं की उपलब्धता बनी रहे जिससे कि लोगों को परेशानी का सामना न करना पड़े। आवश्यक वस्तुओं की होम डिलीवरी को और मजबूत करने के लिए पोस्टमैन की सेवाएं ली जाएं।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने महामारी से निपटने के लिए युवक मंगल दल, नेहरू युवा केंद्र, एनसीसी और एनएसएस से जुड़े युवाओं को प्रशिक्षित कर उनकी सेवाएं लेने के लिए भी निर्देश दिया। गलत और भ्रामक खबरें प्रसारित करने वालों के खिलाफ मुख्यमंत्री ने आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत कार्यवाही करने का अधिकारियों को निर्देश दिया। लॉकडाउन से प्रभावित गरीबों और मजदूरों के बैंक खातों में सहायता राशि उपलब्ध कराने के उद्देश्य से उन्होंने बैंकों को सार्वजनिक अवकाश के दिनों में भी खोलने का निर्देश दिया।

Posted By: Umesh Tiwari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस