अहमदाबाद, जेएनएन। गुजरात के अहमदाबाद में 12 मार्च को दांडी मार्च के ऐतिहासिक दिवस पर भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की कार्यसमिति की बैठक होगी। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह, पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी व नवनियुक्त महासचिव प्रियंका गांधी सहित कार्यसमिति के सभी सदस्य इसमें शामिल होंगे। राहुल, मनमोहन व प्रियंका अडालज में एक कार्यकर्ता सम्मेलन को भी संबोधित करेंगे।

विधानसभा चुनाव के बाद कांग्रेस नेता राहुल गांधी एक बार फिर गुजरात में चुनाव प्रचार के लिए आ रहे हैं। लोकसभा चुनाव प्रचार का आगाज वे गांधीनगर अडालज में एक कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करके करेंगे। गुजरात की वर्ष 1960 में स्थापना के बाद 1961 में कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक अहमदाबाद में हुई थी, उसके बाद पहली बार गुजरात में यह बैठक बुलाई गई है। पहले यह बैठक 28 फरवरी को होनी थी, लेकिन भारत व पाकिस्तान की सीमा पर उत्पन्न तनाव के माहौल को देखते हुए बैठक रद कर दी गई थी।

कांग्रेस कार्यसमिति में शामिल कई राष्ट्रीय नेता 11 मार्च को ही अहमदाबाद पहुंच जाएंगे। राहुल गांधी, डॉ मनमोहन सिंह, सोनिया गांधी आदि नेता 12 मार्च को सुबह अहमदाबाद के सरदार पटेल एयरपोर्ट से सीधे गांधी आश्रम आएंगे। कांग्रेस ने दांडी मार्च की याद में यहां एक प्रार्थना सभा का आयोजन रखा है। गौरतलब है कि पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय इंदिरा गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय राजीव गांधी व पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी के बाद राहुल गांधी भी गुजरात से ही लोकसभा चुनाव प्रचार का श्रीगणेश करेंगे।

कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अमित चावडा के मुताबिक, प्रार्थना सभा के बाद सरदार पटेल स्मारक भवन में कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक होगी। इसमें लोकसभा चुनाव की रणनीति व विविध मुद्दों पर चर्चा होगी। हाल ही में पुलवामा में सीआरपीएफ जवानों पर हुए आतंकी हमले व इसके बाद भारत व पाकिस्तान के बीच पैदा हुए जंग के हालात पर भी कांग्रेस नेता चर्चा करेंगे। साथ ही, नोटबंदी, जीएसटी, किसानों की कर्जमाफी, फसल बीमा, राफेल, महंगाई व बेरोजगारी जैसे मुद्दों पर भी इस कार्यसमिति की बैठक में चर्चा होगी। अडालज त्रिमंदिर में एक जनसभा होगी, जिसे सभी बड़े नेता संबांधित करेंगे। प्रियंका गांधी गुजरात में पहली बार किसी जनसभा को संबोधित करेंगी। प्रदेश में पार्टी के पांच लाख सदस्य हैं, इनमें से शक्ति एप के जरिए सक्रिय कार्यकर्ताओं को घर घर संपर्क जैसे कार्यक्रम का प्रशिक्षण दिया जाएगा।

अहमद पटेल की दावेदारी से नाखुश थे विधायक

कांग्रेस के राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष व सांसद अहमद पटेल की 2017 में राज्यसभा की दावेदारी को लेकर गुजरात कांग्रेस के नेताओं में नाराजगी थी। इसी दौरान कांग्रेस छोड़कर जाने वाले एक और विधायक धर्मेंद्र सिंह जाडेजा ने हाईकोर्ट में दिए अपने बयान में कहा कि कांग्रेस विधायकों में अहमद पटेल को राज्यसभा उम्मीदवार बनाए जाने से नाराजगी थी, इसीलिए करीब एक दर्जन विधायकोंं ने इस दौरान पार्टी छोड़ दी थी। खुद धर्मेंद्र भाजपा में शामिल हो गए थे तथा भाजपा के टिकट पर जामनगर से विधायक हैं।

इससे पहले माणसा से कांग्रेस विधायक अमित चौधरी ने कांग्रेस नेताओं पर अहमद पटेल को ही वोट देने का दबाव डालने की बात कही थी। चौधरी ने भी वरिष्ठ नेता शंकर सिंह वाघेला के साथ कांग्रेस छोड़ दी थी। भाजपा नेता व राज्यसभा चुनाव में पार्टी के प्रत्याशी रहे बलवंत सिंह राजपूत की याचिका पर हाईकोर्ट न्यायाधीश बेला त्रिवेदी मामले की सुनवाई कर रही हैं।  

Posted By: Sachin Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस