जींद, जेएनएन। हरियाणा के पूर्व वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यु के परिवार ने चार साल पहले फरवरी 2016 में जाट आरक्षण आंदोलन में रोहतक स्थित उनकी कोठी व अन्य संस्थान जलाने के सभी आरोपितोंं को माफ कर दिया है। इस संबंध में जींद की जाट धर्मशाला में सतरोल खाप की पहल पर 108 खापों की महापंचायत हुई। खापों की पहल पर महापंचायत में सभी आरोपितों ने सर्वखाप को माफीनामा देकर सिंधु निवास पर हमला, लूटपाट और आगजनी को लेकर प्रत्यक्ष एवं परोक्ष भूमिका, गलती या भूल चूक के लिए माफी मांगी।

इन आरोपियों की तरफ से बलियाना के पूर्व सरपंच योगानंद ने माफी मांगी और कहा कि समाज का फैसला उन्हें मंजूर होगा। इस पर 21 सदस्यीय कमेटी ने भी घटना की निंदा की और आगजनी को रोकने में विफल रहने पर खुद को भी दोषी मानते हुए सामूहिक रूप से 11 हजार रुपये गोशाला में देने का जुर्माना लगाकर सामाजिक तौर पर विवाद का समाधान कर दिया।

इसके बाद कैप्टन अभिमन्‍यु के बड़े भाई वीरसेन ने कहा कि खापों ने जो फैसला लिया है, वह उनके परिवार को मंजूर है। वीरसेन व सतरोल खाप ने इस जुर्माने को माफ कर दिया। सर्वजातीय सर्वखाप महापंचायत सतरोल खाप के प्रधान रामनिवास लोहान की अध्यक्षता में हुई। संचालन दादरी के निर्दलीय विधायक व सांगवान खाप के प्रधान सोमबीर सांगवान ने किया। अब कैप्टन परिवार कोर्ट से केस वापस लेगा।

खाप पंचायत में किए गए फैसलों के बारे में जानकारी देते विधायक सोमबीर सांगवान।

खापों ने कहा- निंदनीय कृत्य था कोठी जलाना

सर्व खाप पंचायत में वक्ताओं और 21 सदस्यीय कमेटी ने कहा कि रोहतक के सेक्टर-14 स्थित कैप्टन अभिमन्यु की कोठी सिंधु भवन, वेद मंदिर, कार्यालय, इंडस पब्लिक स्कूल, हरिभूमि प्रेस आदि में आगजनी, तोडफ़ोड़, लूटपाट और हमले को दुर्भाग्यपूर्ण बताया। यह भी प्रस्ताव पारित किया गया कि स्वर्गीय चौधरी मित्रसेन के परिवार ने समाज को हर मामले में सहयोग किया। उनके घर में मौजूद 10 सदस्यों को जिंदा जलाने का प्रयास किया गया, जिसकी पंचायत उसकी घोर निंदा करती है। पंचायत इस हिंसा में प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से शामिल रहने वालों की भत्र्सना करती है।

पंचायत का निष्कर्ष : कैप्टन व समाज के खिलाफ गहरी साजिश

महापंचायत के संचालक विधायक सोमबीर सांगवान ने कहा कि पंचायत इस निष्कर्ष पर पहुंची है कि कैप्टन अभिमन्यु या उनके परिवार ही नहीं बल्कि पूरे समाज के खिलाफ एक गहरी साजिश थी। इस साजिश में शामिल शासन, प्रशासन व अन्य लोगों की पंचायत निंदा करती है। दिल दहला देने वाली इस घटना के बाद भी सिंधु परिवार को ही बदनाम करने और समाज के भाईचारे को बिगाडऩे की कोशिश की पंचायत ने निंदा की। सांगवान ने कहा कि भविष्य में इस मुद्दे पर किसी व्यक्ति ने झूठी, अनर्गल या अनावश्यक बयानबाजी की तो पंचायत उसे अवमानना मान कर सामाजिक दंड देगी।

खाप पंचायत में मौजूद प्रतिनिधि।

------------

अभियुक्तों को छुड़वाने पर विचार के लिए खापों ने गठित की कमेटी

इसके साथ ही पूर्व वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यु की कोठी जलाने के जलाने के सभी 54 अभियुक्तों को छुड़ाने के लिए खापों ने कमेटी बनाई है। यह कमेटी कानूनी पहलुओं पर भी विचार करेगी। भविष्य में सीबीआई जांच में नए विषय या साक्ष्य आने के मुद्दे इस पंचायत के फैसले के दायरे से बाहर रहेंगे। महापंचायत का संचालन कर रहे विधायक सोमबीर सांगवान ने साथ में यह स्पष्ट किया कि अदालत की किसी कार्यवाही से इस पंचायत का कोई ताल्लुक नहीं है। न्यायिक मामले के लिए कमेटी गठित की गई है, जो कानूनी सलाह लेकर पंचायत के फैसले को अमल में लाने के लिए भूमिका तय करेगी। इसके बाद भी न्यायालय कोई फैसला सुनाता है तो वह सर्वोपरि है और इसमें एक-दूसरे को दोषी नहीं ठहराया जाएगा।

बता दें कि इस प्रकरण की जांच सीबीआई कर रही है, जिसने अभी आरोप पत्र नहीं दायर किया है। अभियुक्तों पर राजद्रोह की धारा 124ए, आपराधिक षड्यंत्र रचने की धारा 120बी सहित 48, 49, 452, 436, 506 सहित कई धाराओं में केस दर्ज हैं। एक अभियुक्तों को छोड़कर सभी को जमानत मिल चुकी है।

महापंचायत में 21 सदस्यीय कमेटी का फैसला सुनाते हुए संचालक व दादरी के विधायक सोमबीर सांगवान ने कहा कि सिंधु परिवार पर किए गए हमले से जुड़े प्रकरण के सभी आरोपित यहां मौजूद हैं। उन्होंने अपने या अपने परिवार की ओर से माफीनामा पंचायत को सौंपा है। पंचायत उनके कृत्य की वजह से उन्हें समाज के प्रति दोषी मानती है और उन्हें पंचायत की तरफ से दंड दिया जाता है। पंचायत में सभी आरोपियों को खड़ा भी किया गया। सांगवान ने कहा कि सामाजिक भाईचारा कायम करने एवं आपस में द्वेष भावना मिटाने की पहल की गई है।

कमेटी में पालम 360 के प्रधान रामकरण, पूनिया खाप के शमशेर नंबरदार, हरपाल ढुल ईक्कस, टेकराम कंडेला, राजकुमार रेढू, मास्टर किताब सिंह मलिक, संदीप अहलावत सरपंच रूपगढ़, उदयवीर नेहरा, बलबीर सिहाग, मान सिंह दलाल, महेन्द्र नांदल, सतबीर सिंह, मलिक राज मलिक, जय सिंह अहलावत, सुरेंद्र दहिया, भलेराम नरवाल, चौधरी राजमल जाटू खाप, सुमित मकड़ौली, जितेंद्र छातर, डॉ. दलबीर आदि शामिल थे।

--

कठिन समय में संयम नहीं खोया सिंधु परिवार ने

महापंचायत में 21 सदस्यीय कमेटी का फैसला सुनाते हुए कैप्टन अभिमन्यु के परिवार ने आगजनी व लूटपाट में करोड़ों रुपये की हानि के बावजूद नुकसान की भरपाई के लिये मिले सरकारी मुआवजे की पूरी राशि गरीब कन्याओं की शादी में खर्च करके आदर्श प्रस्तुत किया। कठिन समय मे भी परिवार ने संयम नहीं खोया और परिजनों पर जानलेवा हमले के बाद भी बदले की भावना के तहत किसी तरह की प्रतिहिंसा नहीं की। समाज इनके धैर्य व अच्छे कार्य की सराहना करता है। भविष्य में कैप्टन परिवार को राजनीतिक व सामाजिक रूप से पूरा सहयोग दिया जाएगा। खापों ने कहा कि आगजनी की घटना को रोका जा सकता था, लेकिन पंचायत इसमें विफल रही। इसके लिए महापंचायत खुद पर सामूहिक रूप से 11 हजार रुपये जुर्माना लगाती है। यह राशि गोशाला में दान दी जाएगी।

 

Posted By: Sunil Kumar Jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस