लखनऊ, जेएनएन। नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में उत्तर प्रदेश के कई इलाकों में हिंसक प्रदर्शन के बाद सैकड़ों लोगों को गिरफ्तार किया गया है। हिंसक प्रदर्शन में डेढ़ दर्जन लोगों की मौत भी हो गई है। अब प्रदेश सरकार हिंसक प्रदर्शन के आरोपित लोगों की धरपकड़ में लगी है। इसी बीच बसपा की मुखिया मायावती ने प्रदर्शन के दौरान हुई हिंसा की निंदा करने के साथ ही प्रदेश सरकार से निर्दोष लोगों को छोड़ने की मांग की है। 

बसपा मुखिया ने ट्वीट किया है कि उत्तर प्रदेश में हिंसक प्रदर्शन के बाद कुछ निर्दोष लोग भी पुलिस की कार्रवाई की जद में आ गए हैं। इनको प्रदेश सरकार को छोड़ देना चाहिए। मायावती का कहना है कि बिजनौर में जो लोग गिरफ्तार किए गए हैं, उनमें से निर्दोषों को छोड़ा जाना चाहिए।

मायावती ने ट्वीट किया कि जैसा कि विदित है कि बीएसपी हिंसक प्रदर्शन आदि के हमेशा विरूद्ध रही है। इसके बाद भी पिछले कई दिनों से देश के अधिकांश भागों में व खासकर उत्तर प्रदेश में जो सीएए तथा एनआरसी के विरोध में हिंसक घटनायें हुई हैं, यह अति-दु:खद व दुर्भाग्यपूर्ण हैं। इस दौरान बिजनौर सहित कई जिलों में जो लोग मारे गये हैं, पार्टी इस दु:ख की घड़ी में उनके साथ खड़ी है तथा जो लोग गिरफ्तार किये गये हैं, उनकी सही जाँच-पड़ताल करके निर्दोषों को जरूर छोड़ा जाये।

यह सरकार से माँग है व कानून भी यही कहता है। इसके अलावा मायावती ने लिखा, 'किंतु इस दौरान बिजनौर सहित कई जिलों में जो लोग मारे गए हैं, पार्टी इस दु:ख की घड़ी में उनके साथ खड़ी है तथा जो लोग गिरफ्तार किये गये हैं, उनकी सही जांच-पड़ताल करके निर्दोषों को जरूर छोड़ा जाए। यह सरकार से मांग है व कानून भी यही कहता है।

उत्तर प्रदेश में नागरिकता संशोधन एक्ट के खिलाफ हुए प्रदर्शन के दौरान अभी तक 18 प्रदर्शनकारियों की मौत हो गई है। राज्य में अभी प्रदर्शन को देखते हुए धारा 144 लगाई गई है। अब योगी आदित्यनाथ उपद्रवियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई कर रही है। उनकी संपत्ति को जब्त किया जा रहा है। मुजफ्फरनगर के साथ बिजनौर में अभी तक कुछ दुकानों को सीज भी कर दिया गया है।

एहतियात के तौर पर उत्तर प्रदेश में रविवार को फिर से इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई है। 21 जिलों में इंटरनेट सेवा सोमवार तक बंद रखने का ऐलान किया गया है।  

Posted By: Dharmendra Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस