लखनऊ, जेएनएन। बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती का 64वां जन्मदिन 15 जनवरी को मनाया जाएगा। एक बार फिर बसपा सुप्रीमो के जन्मदिन को जनकल्याणकारी दिवस के रूप में मनाया जाएगा। लखनऊ में माल एवेन्यू में पार्टी के कार्यालय में मायावती बुधवार को केक काटेंगी। इस अवसर पर वह अपनी पुस्तक 'मेरे संघर्षमय जीवन का सफरनामा-15' का भी विमोचन करेंगी। सुबह नौ बजे जन्मदिन का केट काटने के बाद वह मीडिया से भी रूबरू होंगी।

बसपा की राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री मायावती का बुधवार को 64वां जन्मदिन है। अपने जन्मदिन को 'जनकल्याणकारी दिवस' के रूप में मनाने वाली मायावती इस मौके पर पार्टी की ब्लू बुक का भी विमोचन करेंगी। इसके बाद वह दिल्ली रवाना हो जाएंगी। बसपा मुखिया जन्मदिन पर सुबह नौ बजे मॉल एवेन्यू स्थित प्रदेश मुख्यालय पहुंचेंगी। यहां मीडिया से मुखातिब होंगी। साथ ही बसपा की ब्लू बुक 'मेरे संघर्षमय जीवन एवं बीएसपी मूवमेंट का सफरनामा, भाग-15' और इसके अंग्रेजी संस्करण का भी विमोचन करेंगी। इसके बाद वह दिल्ली रवाना हो जाएंगी और परिवार के साथ जन्मदिन मनाएंगी। वहीं, जिलों के पहले से ही निर्देश जारी हो चुके हैं। वहां हर वर्ष की तरह कार्यकर्ता जनकल्याणकारी दिवस के रूप में नेता का जन्मदिन मनाकर समाज के लोगों को पार्टी से जोडऩे का प्रयास करेंगे।

बसपा प्रमुख मायावती का जन्मदिन हर वर्ष की तरह जिला केंद्रों पर जनकल्याणकारी दिवस के रूप में मनाया जाएगा, जिसमें गरीबों के लिए उपहार वितरित किए जाएंगे और केक काटा जाएगा। सुबह लखनऊ में प्रेसवार्ता के बाद मायावती दिल्ली कार्यालय में जन्मदिन मनाएंगी। विधानसभा क्षेत्रवार पार्टी फंट का कोटा तय किया गया है। सूत्रों का कहना है कि प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र से न्यूनतम पांच लाख रुपये पार्टी फंड में जमा कराने को कहा गया है। विधानसभा क्षेत्र प्रभारी को भी फंड जमा कराने की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

मायावती जब सरकार में रहती थी तो प्रदेश भर में उनका जन्मदिन बहुत धूमधाम से मनाया जाता था। जब से मायावती सत्ता से बाहर हुई है उनका जन्मदिन सादगी से जनकल्याणकारी दिवस के तौर पर मनाया जाता है। अपने जन्मदिन के मौके पर बहुजन समाज पार्टी की सुप्रीमो मायावती ने पहले 2019 में भी इस पुस्तक का विमोचन किया था। बसपा मुखिया की तरफ से जारी इस पुस्तक को ब्लूबुक भी कहा जाता है। इस किताब में मायावती एक वर्ष के अपने सियासी रोड मैप के बारे में अपने कार्यकर्ताओं को बताती हैं।

पिछले वर्ष समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन के कारण मायावती का जन्मदिन काफी हाईटेक हुआ था। उनके जन्मदिन पर अखिलेश यादव भी पहुंचे थे। अब गठबंधन टूट चुका है। इस बार फिर से वह अपना जन्मदिन कार्यकर्ताओं संग मनाएंगी।  

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस