लखनऊ, जेएनएन। बलिया के रेवती थाना क्षेत्र के दुर्जनपुर गांव में कोटे की दुकान के आवंटन के दौरान हत्या के मुख्य आरोपित धीरेंद्र प्रताप सिंह के पक्ष में लगातार खड़े विधायक सुरेंद्र सिंह के मामले में भाजपा का प्रदेश नेतृत्व काफी गंभीर है। भाजपा नेतृत्व पर उंगली उठाने वाले बलिया के बैरिया से पार्टी के विधायक सुरेंद्र सिंह को भाजपा प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह ने रविवार को लखनऊ तलब किया है। प्रदेश अध्यक्ष का संदेश मिलने के बाद सुरेंद्र सिंह बलिया से लखनऊ रवाना हो गए हैं।

भारतीय जनता पार्टी की उत्तर प्रदेश इकाई ने बलिया में एक हत्यारोपी का साथ देने वाले विधायक सुरेन्द्र सिंह को लखनऊ तलब किया है। भारतीय जनता पार्टी उत्तर प्रदेश के अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह ने बलिया गोली कांड के मामले में लगातार धीरेंद्र प्रताप सिंह के पक्ष में बयान दे रहे बैरिया के विधायक सुरेंद्र सिंह को तलब किया है। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सुरेंद्र सिंह की बयानबाजी से बेहद खफा हैं। बलिया के प्रकरण में सुरेंद्र सिंह आरोपितों के पक्ष में अपने विवादित बयानों के साथ ही उनसे मिलने जिला अस्पताल जाने और आरोपितों के पक्ष में रिपोर्ट लिखे जाने का दबाव बनाने के कारण बेहद चर्चा में हैं। माना जा रहा है कि लखनऊ में बलिया के पूरे मामले में विधायक से सवाल जवाब किया जा सकता है।

मैं हमेशा न्याय के साथ, सपा यादव के साथ तो मैं क्षत्रिय के साथ

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह के बुलावे पर रविवार को बैरिया के विधायक सुरेंद्र सिंह ने लखनऊ रवाना होने से पहले मुख्य आरोपित धीरेंद्र प्रताप सिंह का पक्ष लेने के साथ ही जाति विशेष को लेकर विवादित बयान दिया था। लखनऊ रवाना होने से पूर्व विधायक ने बताया कि प्रदेश अध्यक्ष के बुलावे पर जा रहा हूं। मैं पुलिस की एक पक्षीय कार्रवाई के विरोध में हूं। धीरेंद्र प्रताप सिंह ने आत्मरक्षार्थ व परिवार की सुरक्षा में गोली चलाई। मैं हमेशा न्याय के पक्ष में हूं। मुझे प्रदेश अध्यक्ष ने क्यों बुलाया है, यह मुझे नहीं पता है। जहां तक जातीय बयान का सवाल है तो समाजवादी पार्टी अगर यादव के साथ है तो मैं क्षत्रिय के साथ खड़ा रहूंगा। भाजपा विधायक सुरेन्द्र सिंह ने आरोपित का खुलकर पक्ष लेते हुए अपनी ही सरकार की पुलिस पर प्रश्न खड़ा कर दिया। उन्होंने पुलिस की कार्रवाई को एकतरफा बताते हुए पूरे प्रकरण की जांच सीबीसीआईडी को सौंपने की मांग की है।

भाजपा विधायक सुरेंद्र सिंह शनिवार को आरोपित धीरेंद्र प्रताप सिंह के परिवार की महिलाओं और बच्चों को लेकर थाना पहुंच गए। विधायक का कहना था कि धीरेंद्र के परिवार के लोग भी चोटिल हुए हैं इसलिए उनकी भी रिपोर्ट लिखी जानी चाहिए। पुलिस ने केस से पहले मेडिकल की बात कही तब विधायक पूरे परिवार के साथ सीएचसी गए लेकिन कोई डाक्टर नहीं मिला। सीएचसी पर डाक्टर की अनुपस्थिति के कारण विधायक आरोपी परिवार के साथ जिला अस्पताल पहुंच गए। सूचना मिलने पर बलिया के एसपी भी जिला अस्पताल गए हैं।

बलिया के रेवती क्षेत्र के ग्राम सभा दुर्जनपुर व हनुमानगंज की दो दुकानों के आवंटन के लिए 15 अक्टूबर को दोपहर में पंचायत भवन में खुली बैठक आयोजित की गई थी। इस बैठक में एसडीएम बैरिया सुरेश पाल, सीओ बैरिया चंद्रकेश सिंह, बीडीओ बैरिया गजेन्द्र प्रताप सिंह के साथ ही रेवती थाने की पुलिस फोर्स मौजूद थी। इस दौरान दुर्जनपुर की दुकान पर सहमति नहीं बनी। बाद में वोटिंग कराने का निर्णय हुआ तो हंगामा शुरू हो गया।

हंगामा होते ही अधिकारियों ने बैठक स्थगित कर दी और जाने लगे। इस दौरान पुलिस भी मौके पर मौजूद थी। वहां बैठक स्थगित होने के बाद दोनों पक्षों में मारपीट शुरू हो गई। मारपीट के दौरान एक पक्ष के पूर्व फौजी धीरेंद्र प्रताप सिंह ने गोली चला दी। जिससे दूसरे पक्ष के जयप्रकाश उर्फ गामा पाल (46) निवासी दुर्जनपुर की मौत हो गई। जयप्रकाश को चार गोली लगी थी। 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस