जागरण संवाददाता,जयपुर। कोरोना वायरस के चलते राज्यसभा चुनाव स्थगित होने को लेकर एक तरफ जहां राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उप मुख्यमंत्री एवं प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष सचिन पायलट की अलग-अलग राय सामने आई है। वहीं पिछले 13 दिन से जयपुर के दिल्ली रोड़ स्थित एक रिसोर्ट में ठहरे गुजरात के 67 कांग्रेस विधायक मंगलवार दोपहर वापस अहमदाबाद लौट गए।

राज्यसभा चुनाव स्थगित होने पर राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आपत्ति जताई है। चुनाव स्थगित करने के फैसले की निंदा करते हुए गहलोत ने चुनाव आयोग के इस फैसले पर सवाल उठाए हैं। गहलोत ने मंगलवार दोपहर दो अलग-अलग ट्वीट कर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग द्वारा बिना राजनीतिक दलों को विश्वास में लिए राज्यसभा चुनाव स्थगित करना घोर निंदनीय है । सबसे चिंताजनक तो यह है कि कल तक ही संसद सत्र था,कल ही मध्यप्रदेश में शपथग्रहण हुआ जिसे जानबूझकर अनदेखा किया गया । एक दिन पहले राज्यसभा के चुनाव स्थगित करना निश्चित रूप से विचारणीय है,बीजेपी गुजरात और राजस्थान में हॉर्स ट्रेडिंग में सफल नहीं हो पाई,इसके लिए उन्हे कुछ और समय चाहिए, लोकतंत्र के लिए दुखद दिन है ।

वहीं राज्य के उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने मंगलवार को जयपुर में मीडिया से बात करते हुए कहा कि राज्यसभा के 26 मार्च को होने वाले चुनाव स्थगित होना बहुंत ही अच्छा कदम है । लोगों में इसका संदेश जाएगा कि जनसुरक्षा को प्राथमिकता दी गई है । उन्‍होंने कहा कि राजस्थान में संख्याबल हमारे पास है,बीजेपी चाहती है कि निर्विरोध चुनाव नहीं हो,इसलिए संख्या बल नहीं होने के बावजूद उन्होंने दूसरा उम्मीदवार खड़ा किया । कोरोना के प्रकोप से मजबूती से मुकाबला करना है,ये महामारी दुनिया के हर देश में पहुंच चुकी है । भारत में स्वास्थ्य सेवाओं का ढांचा विकसित देशों की तरह नहीं है,लिहाजा हमें ज्यादा सावधानी बरतनी है । कुछ लक्षण दिखे तो डॉक्टर से संपर्क करें । उन्होंने कहा कि युद्ध के दौरान भी भारत में रेल बंद नहीं हुई थी,लेकिन आज रेल बंद है,इसी से अंदाजा लगाया जा सकता है कि यह महामारी किस हद तक बढ़ गई है। उन्होंने कहा कि लॉक डाउन की घोषणा राजस्थान ने सबसे पहले की । उन्होंने कहा कि जिला कांग्रेस कमेटियों को सहयोग के लिए कहा गया है । 

उमर अब्दुल्ला की रिहाई का स्वागत 

सचिन पायलट ने जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला की रिहाई का स्वागत करते हुए कहा कि उन्हे बिना किसी कारण के डिटेन कर रखा था । एनडीए सरकार मनमानी कर रही है।उल्लेखनीय है कि पायलट की पत्नी सारा उमर की बहन है । उमर पर पीएसए के तहत कार्रवाई की गई थी,जिसे सारा पायलट ने सुप्रीम कोर्ट में चैलेंज दिया था । 

रिसोर्ट में बंद रहने के बाद रहने के बाद गुजरात के विधायक अहमदाबाद लौटे 

जयपुर के दिल्ली रोड़ स्थित शिव विलास रिसोर्ट में 13 दिन तक रहने के बाद गुजरात कांग्रेस के 67 विधायक मंगलवार दोपहर फ्लाइट से अहमादबाद लौट गए । चुनाव आयोग द्वारा राज्यसभा चुनाव स्थगित करने का नोटिफिकेशन जारी करने के बाद इन विधायकों से कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव बी.के.हरिप्रसाद और राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की टेलिफोन पर बात हुई । इसके बाद राजस्थान के सरकारी मुख्य सचेतक महेश जोशी और उप मुख्य सचेतक महेंद्र चौधरी रिसोर्ट पहुंचे । उन्होंने विधायकों के साथ लंच किया और फिर उसके बाद ये सभी जयपुर के सांगानेर एयरपोर्ट के लिए रवाना हो गए । एयरपोर्ट से ये सभी विधायक अहमदाबाद के लिए रवाना हुए । उल्लेखनीय है कि राज्यसभा चुनाव में भाजपा द्वारा गुजरात कांग्रेस के विधायकों में सेंध लगाने की आशंका को देखते हुए इन्हे जयपुर ठहराया गया था । कोरोना वायरस का प्रकोप बढ़ने और लॉक डाउन घोषित होने के बाद ये विधायक दो दिन से रिसोर्ट में ही थे,इन्हे बाहर नहीं निकलने दिया गया ।

Posted By: Vijay Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस