जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कहा कि सरकारें अपने स्तर पर कोरोना से निपटने के लिए सभी आवश्यक प्रयास कर रही हैं, परंतु संकट की इस घड़ी में विधायिका को भी और अधिक तत्परता से अपना कर्तव्य निभाना है। साथ ही उन्होंने जनप्रतिनिधियों से भी अपील की कि सभी पूरी एकजुटता की भावना के साथ अपने कर्तव्यों का पालन करें तथा समाज और देश को इस आपदा से शीघ्र मुक्ति दिलाने में अपना योगदान दें।

लोकसभा अध्यक्ष ने पीठासीन अधिकारियों के सम्मेलन को किया संबोधित

लोकसभा अध्यक्ष सोमवार को 'कोविड-19 की वर्तमान स्थिति : जनप्रतिनिधियों की भूमिका और दायित्व' विषय पर आयोजित देश भर के पीठासीन अधिकारियों और अन्य विधायी नेताओं की एक बैठक को संबोधित कर रहे थे। इस बैठक में राज्य विधानमंडल के पीठासीन अधिकारियों के साथ राज्य विधानमंडल के संसदीय कार्य मंत्री, मुख्य सचेतक तथा नेता प्रतिपक्ष आदि मौजूद थे।

बिरला ने कहा- कोरोना से लड़ाई में विधायिका को पूरी ताकत से जुटना चाहिए

बैठक में लोकसभा अध्यक्ष ने कोरोना की नई लहर के तेज फैलाव पर चिंता जताई और कहा कि विधायिका को भी इस लड़ाई में पूरी ताकत से जुटना चाहिए।

बिरला ने कहा- राज्यों के विधानमंडलों में बनाया जाए कंट्रोल रूम

उन्होंने इस दौरान सभी राज्यों के विधायी प्रतिनिधियों से कहा कि वे अपने-अपने राज्यों के विधानमंडलों में कोरोना से निपटने के लिए एक कंट्रोल रूम स्थापित करें। साथ ही इसके जरिये वे जनता से जुड़ी समस्याओं और सूचनाओं को सरकार तक पहुंचाने का काम करें।

लोकसभा अध्यक्ष ने लोगों को टीकाकरण को लेकर जागरूक करने का किया अनुरोध

उन्होंने पीठासीन अधिकारियों से अपने अच्छे प्रयासों को एक दूसरे से साझा करने का आग्रह भी किया, ताकि जनता की समस्याओं के निवारण के लिए एक मानक प्रक्रिया स्थापित हो सके। इसके साथ ही उन्होंने लोगों को टीकाकरण को लेकर जागरूक करने का अनुरोध भी किया।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप