नई दिल्ली, प्रेट्र। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर ने सोमवार को कहा कि पेगासस जासूसी मामले की जांच सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में होनी चाहिए। उन्होंने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार अपने राजनीतिक हितों को पूरा करने के मकसद से जासूसी कराने पर सरकारी धन खर्च कर रही है।

थरूर ने कहा- सरकार पेगासस जासूसी मामले पर संसद में चर्चा करने को तैयार नहीं

संसद परिसर में संवाददाताओं से बात करते हुए थरूर ने कहा, हम चाहते हैं कि सरकार इस मुद्दे पर सदन में चर्चा के लिए तैयार हो, लेकिन वह सहमत नहीं है। हमारा कहना है कि जब सरकार चर्चा करने और जवाब देने के लिए तैयार नहीं है तो फिर हमें सरकार के कामकाज को क्यों चलने देना चाहिए।

खड़गे ने पेगासस जासूसी मामले पर नियम 267 के तहत नोटिस देने का किया फैसला

इस बीच, राज्यसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने सोमवार सुबह अपने चैंबर में विभिन्न विपक्षी नेताओं से मुलाकात की और इस मुद्दे पर नियम 267 के तहत नोटिस देने का फैसला किया।

रमेश ने कहा- पेगासस जासूसी मामले पर पूरा विपक्ष एकजुट, पीएम या गृह मंत्री की उपस्थिति में हो चर्चा

कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने कहा, पूरा विपक्ष एकजुट है। प्रधानमंत्री या गृह मंत्री की उपस्थिति में पेगासस जासूसी मामले पर चर्चा कराई जाए।

जयराम रमेश ने कहा- पेगासस जासूसी मामले की सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में हो जांच

कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में पूरे मामले की जांच की घोषणा की जाए। उन्होंने ट्वीट किया, संसद काम नहीं कर रही, क्योंकि सरकार इन जायज मांगों को नहीं मान रही है।

Edited By: Bhupendra Singh