ग्वालियर, जेएनएन। पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के समर्थक व पूर्व विधायक मुन्नालाल गोयल पर ग्वालियर जिले के सिरौल थाना कैंपस में भीड़ ने मंगलवार को पथराव कर दिया। पत्थरबाजी में मुन्नालाल का सिर फूट गया। इस दौरान हमलावरों ने गाड़ी के शीशे भी फोड़ दिए। पूर्व विधायक के सिर में चार टांके आए हैं। गोयल ने कांग्रेस पर उनकी हत्या की साजिश रचने का आरोप लगाया है। जवाब में कांग्रेस ने उन पर सहानुभूति पाने के लिए साजिश का प्रत्यारोप लगाया है।

सिरौल स्थित जाटव मोहल्ले में अनुसूचित जाति वर्ग के पारस जौहरी की निर्ममता से हुई हत्या के बाद समाज के आक्रोशित लोग शव रखकर हत्यारोपितों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर सिरौल थाना घेरकर बैठे थे। पूर्व विधायक गोयल भी युवक की हत्या पर संवेदनाएं व्यक्त करने के लिए वहां गए थे। गोयल के गाड़ी से उतरते ही भीड़ में से कुछ लोगों ने उन पर पथराव कर दिया।

गौरतलब है कि ग्वालियर पूर्व विधानसभा से कांग्रेस के टिकट पर जीते मुन्नालाल गोयल सिंधिया के साथ कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हो गए थे। घटना के समय पूर्व विधायक का सुरक्षा गार्ड साथ नहीं था। गोयल ने कहा कि मैं एफआइआर दर्ज नहीं कराऊंगा, फैसला जनता के ऊपर छोड़ता हूं। पूर्व विधायक का आरोप है कि उन पर हमला आक्रोशित भीड़ ने नहीं किया है। भीड़ में शामिल 4-5 लोगों ने उनके सिर को लक्ष्य बना कर पथराव किया है। यह कांग्रेस की साजिश है। पूर्व विधायक ने यह आरोप सांसद विवेक नारायण शेजवलकर, पूर्व मंत्री गौरीशंकर बिसेन व भाजपा जिलाध्यक्ष कमल माखीजानी की मौजूदगी में लगाया है।

सुरक्षा गार्ड साथ लेकर क्यों नहीं गए : कांग्रेस

गोयल के आरोप पर ग्वालियर शहर जिला कांग्रेस अध्यक्ष डॉ. देवेंद्र शर्मा ने पलटवार करते हुए कहा कि जनाधार खिसकता देखकर सहानुभूति बटोरने के लिए पूर्व विधायक ने हमले की साजिश रची है। कांग्रेस ने मुन्नालाल गोयल से सवाल किया है कि वह आज अपने सुरक्षा गार्ड को साथ लेकर क्यों नहीं गए, जबकि लॉकडाउन में 24 घंटे उनका सुरक्षा गार्ड उनके साथ रहा है।

Posted By: Nitin Arora

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस