जम्मू, राहुल शर्मा। साल 2019 कई मायनों में जम्मू-कश्मीर के लिए परिवर्तनकारी रहा है। अस्थायी प्रावधान हटाए जाने के बाद जम्मू-कश्मीर और भारत के बीच कानूनी और आर्थिक अड़चनें दूर हो गई है। अब सही मायनों में जम्मू-कश्मीर का भारत के साथ विलय हो गया है। अब देश का कानूनी ढांचा जम्मू-कश्मीर में भी लागू हो चुका है।

जम्मू-कश्मीर की नई सुबह लाएगी प्रदेश में लाएगी शांति

जम्मू-कश्मीर एक नई सुबह देख रहा है। एक सुबह जो उम्मीद जगाती है, जो समृद्धि लाएगी, जो प्रगति की ओर ले जाएगी और जम्मू-कश्मीर में शांति लाएगी। गलतफहमियों को दूर करने का सबसे अच्छा तरीका है कि हम अपने गणतांत्रिक मूल्यों का पालन करने के लिए उनके प्रति अपनी प्रतिबद्धता की पुष्टि करें।

उपराज्यपाल ने मौलाना आजाद स्टेडियम में फहराया राष्ट्रीय ध्वज

ये बात जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल जीसी मुर्मू ने जम्मू के मौलाना आजाद स्टेडियम में गणतंत्र दिवस समारोह के दौरान राष्ट्रीय ध्वज फहराने और परेड की सलामी लेने के बाद लोगों को संबोधित करते हुए कही। केंद्र शासित प्रदेश बनने के बाद जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में गणतंत्र दिवस समारोह को लेकर लोगों में रविवार को भारी उत्साह देखने को मिला। जम्मू से लेकर श्रीनगर और लेह तक में लोग आयोजित कार्यक्रमों में बड़ी संख्या में पहुंचे। जम्मू में मुख्य समारोह नवनिर्मित मौलाना आजाद स्टेडियम में हुआ जहां उपराज्यपाल जीसी मुर्मू ने राष्ट्रीय ध्वज फहराया।

श्रीनगर के शेर-ए-कश्मीर क्रिकेट स्टेडियम में एलजी के सलाहकार ने फहराया तिरंगा

श्रीनगर में मुख्य कार्यक्रम शेर-ए-कश्मीर क्रिकेट स्टेडियम में हुआ जहां उपराज्यपाल के सलाहकार फारूक खान ने तिरंगा फहराया। लेह के पोलो मैदान में आयोजित कार्यक्रम में उपराज्यपाल आरके माथुर ने राष्ट्रीय ध्वज फहराया। इसके अलावा जम्मू-कश्मीर के सभी सरकारी भवनों, अस्पतालों, गलियों, चौराहों में इस बार राष्ट्रीय ध्वज लहराते हुए नजर आए।

मुर्मू ने सुरक्षा बलों को सेल्यूट करते हुए कहा- सुरक्षा व्यवस्था को बनाए रखने में अहम भूमिका

इस दौरान पूरे जम्मू-कश्मीर में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई थी। जम्मू में आयोजित कार्यक्रम में उपराज्यपाल जीसी मुर्मू ने आतंकवाद से लड़ रही पुलिस और सुरक्षा बलों को सेल्यूट करते हुए उपराज्यपाल ने कहा कि जम्मू कश्मीर में कानून एवं व्यवस्था की स्थिति को बनाए रखने में सुरक्षा बल अहम भूमिका निभा रहे है।

उपराज्यपाल ने कहा- आतंकवाद एक चिंता का विषय है

हिंसा में मरने वाले लोगों को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए उन्होंने कहा कि आतंकवाद एक चिंता का विषय है जिसमें युवाओं को गलत रास्ते पर ले जाया जाता है। हालांकि आतंकवादी घटनाओं में कमी आई है लेकिन आतंकवाद के खतरे से निपटने के लिए सतर्क रहना चाहिए। हमारे सुरक्षा बलों को सतर्क रहकर जम्मू कश्मीर में शांति भंग करने के प्रयास करने वालों के मंसूबों को नाकाम बनाना चाहिए।

सुरक्षा के रहे कड़े प्रबंध

समारोह में लोगों की भीड़ को देखते हुए स्टेडियम और उसके आसपास सुरक्षा के कड़े प्रबंध रहे। स्टेडियम की ऊंची इमारतों पर शार्प शूटर तैनात किए गए थे जबकि मुख्य समारोह में सुरक्षा पर कड़ी नजर रखने के लिए ड्रोन की भी मदद ली गई थी। इसके अलावा एयरफोर्स के चापर भी समारोह के दौरान आसमान पर मंडराते रहे।

Posted By: Bhupendra Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस