नई दिल्ली, जागरण ब्यूरो। संसद के शीतकालीन सत्र के मद्देनजर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी फिर से कोरोना को मुद्दा बनाने की कोशिश शुरू कर दी है। राहुल ने ट्विटर पर कांग्रेस के न्याय अभियान के तहत एक संक्षिप्त वीडियो में गुजरात के कोरोना पीड़ि‍त परिवार का उल्लेख करते हुए सरकार से कहा कि हमारी दो ही मांग है, कोरोना के मृतकों के सही आंकड़े बताए जाएं और दूसरा कोरोना के चलते अपने प्रियजनों को खो चुके परिवारों को चार लाख रुपये मुआवजा दिया जाए।

गुजरात को लेकर बोला हमला

गुजरात माडल की खूब बाते होती हैं मगर उन लोगों ने जिन परिवारों से बात की सबने कहा कि कोरोना महामारी के दौरान बेड, वेंटिलेटर कहीं उपलब्ध नहीं था और सरकार ने कोई मदद नहीं की। राहुल गांधी ने इस वीडियो में दावा किया है कि गुजरात सरकार कोरोना की वजह से केवल 10,000 लोगों की मौत होने की बात कह रही है मगर कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने घर-घर जाकर सर्वे किया है और हमारा आकलन है कि राज्य में तीन लाख से अधिक लोगों की कोरोना के चलते मौत हुई है।

संसद के शीत सत्र के दौरान बनाएंगे दबाव

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री 8,500 करोड़ रुपये का हवाई जहाज खरीद सकते हैं मगर कोरोना पीड़ि‍तों के प्रियजनों को मुआवजा नहीं दिया जा सकता। शीत सत्र के दौरान कोरोना पीड़ि‍तों के घाव पर मरहम लगाने के लिए सियासी दबाव बनाने का साफ संकेत देते हुए राहुल गांधी ने कहा कि मृतक के परिजनों को चार लाख रुपए मुआवजा दिलाने के लिए कांग्रेस पूरी ताकत से सरकार पर दबाव डालेगी। संसद के दोनों सदनों में सरकार के कोरोना प्रबंधन की खामियों पर बहस कराने की मांग भी पार्टी शीत सत्र में उठाएगी।

Edited By: Arun Kumar Singh