नई दिल्ली, प्रेट्र। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने राजस्थान और तेलंगाना में मतदान होने के बाद अपने पार्टी कार्यकर्ताओं को सतर्क रहने को कहा है। उन्होंने ट्वीट कर कहा, 'मोदी के भारत में ईवीएम में रहस्यमयी शक्तियां हैं।' राहुल के इन आरोपों को खारिज करते हुए चुनाव आयोग ने कहा कि सुरक्षा प्रोटोकाल का पूरा पालन किया गया है। यह सब मध्यप्रदेश हाईकोर्ट की मंजूरी से हो रहा है।

राहुल गांधी ने शुक्रवार को ट्वीट करके दो राज्यों के पार्टी कार्यकर्ताओं से अपील की कि वह अपने पोलिंग बूथों में अपने पूरे प्रयास कर पार्टी की जीत सुनिश्चित करें। उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं से मतदान खत्म होने के बाद भी सतर्कता बरतते हुए ईवीएम पर नजर बनाए रखने को कहा।

गांधी ने एक मीडिया रिपोर्ट के हवाले से कहा, 'इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) 28 नवंबर को वोटिंग खत्म होने के 48 घंटे बाद मध्यप्रदेश के कलेक्शन सेंटर पहुंची। एमपी में मतदान के बाद ईवीएम का बर्ताव बहुत अजीब था। किसी ने स्कूल बस को चुराई और दो दिन के लिए गायब हो गया। कुछ अन्य वहां से निकल लिए और होटल में ड्रिंक करते मिले। मोदी के भारत में ईवीएम की रहस्यमयी शक्तियां हैं।'

इसके जवाब में चुनाव आयोग के उपायुक्त उमेश सिन्हा ने संवाददाताओं को बताया कि मध्यप्रदेश हाईकोर्ट की जबलपुर बेंच ने चुनाव आयोग के ईवीएम को सुरक्षित रखने के तरीके के सुरक्षा प्रोटोकाल को मंजूरी दी है। उन्होंने कहा कि अदालत में एक जनहित याचिका का निस्तारण करते हुए खंडपीठ ने ईवीएम के लिए तीन स्तरीय सुरक्षा को मंजूरी देते हुए कहा था कि स्ट्रांग रूम पर्याप्त हैं।

एक अन्य उप चुनाव आयुक्त संदीप सक्सेना ने बताया कि मतदान में प्रयुक्त होने वाले ईवीएम और बतौर रिजर्व रखे जाने वाले ईवीएम अलग-अलग इमारतों में रखे जाते हैं। मतदान में इस्तेमाल होने वाले ईवीएम मतगणना के दिन ही राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों के सामने ही खोले जाते हैं।

 

Posted By: Arun Kumar Singh