नई दिल्ली, एजेंसी। Pulwama Terror Attack, पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने नवजोत सिंह सिद्धू पर ट्वीट कर चुटकी ली है। उन्होंने कहा है कि सिद्धू जी अपने दोस्त इमरान भाई को समझाइए। आपको उनकी वजह से गाली पड़ रही है। बता दें कि पुलवामा हमले के बाद पाकिस्तान पर दिए बयान के कारण सिद्धू की काफी आलोचना हो रही है। इसके अलावा ऐसी खबरें आईं कि उनकी टीवी शो (Comedy Nights With Kapil) से छुट्टी कर दी गई है। हालांकि, वे इससे इन्कार कर रहे हैं और इसकी आधिकारिक पुष्टि भी नहीं हुई है। 

सिलिसिलेवार ट्वीट में दिग्विजय ने बेबाक तरीके से अपनी राय रखी। अपने बयानों के कारण अक्सर ही आलोचकों के निशाने पर रहने वाले इस कांग्रेसी नेता ने इमरान खान को भी चुनौती दे डाली। उन्होंने ट्वीट किया, 'पाकिस्तान के श्रीमान प्रधानमंत्री कमऑन! कुछ साहस दिखाइए और हाफिज सईद और मसूद अजहजर आतंक के स्वघोषित सरगनाओं को भारत को सौंपिए। आप ऐसा कर न सिर्फ पाकिस्तान को आर्थिक संकट से निकालने में सक्षम होंगे, बल्कि नोबेल शांति पुरस्कार के भी प्रबल दावेदार बन जाएंगे।' 

दिग्विजय को पीएम मोदी और आरएसएस का कठोर आलोचक माना जाता है। इस दौरान उन्होंने मोदी के समर्थकों पर भी निशाना साधा। ट्वीट में दिग्विजय ने लिखा, 'मुझे पता है कि मोदी भक्त ट्रोल करेंगे, लेकिन मुझे इसकी परवाह नहीं है। इमरान खान को एक क्रिकेटर के तौर पर मैं पसंद करता हूं, लेकिन मुस्लिम कट्टरपंथियों और आईएसआई समर्थित गुटों का समर्थन कर रहे हैं। मुझे इस पर यकीन नहीं हो रहा है।' 

दिग्विजय सिंह ने कश्मीर के छात्रों और स्थानीय नागरिकों को उत्पीड़ित नहीं करने की अपील करते हुए कहा, 'एक भारतीय के तौर पर क्या हम कश्मीरी छात्रों और कश्मीरी व्यापारियों को पूरे देश में परेशान करना नहीं छोड़ सकते हैं? क्या हम ऐसा कश्मीर चाहते हैं जिसमें कश्मीरी ही न हों? एक राष्ट्र के तौर पर हमें अपना विकल्प चुनना ही होगा।' 

कश्मीर के लिए एक रोडमैप बनाने की जरूरत पर जोर देते हुए कांग्रेस नेता ने कहा, 'कश्मीर की समस्या 71 साल पुरानी है और हम सब इसके दोषी हैं। क्या हम इसके लिए कुछ खास नहीं कर सकते? हम कर सकते हैं। क्या कांग्रेस, भाजपा, एनसी, पीडीपी और अन्य पार्टियां जो कश्मीर में मौजूद हैं एक रोडमैप अगले 10 साल के लिए तैयार नहीं कर सकते, जिसे हर हाल में पूरा किया जाना चाहिए?' 

Posted By: Tanisk

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप