नई दिल्ली (जेएनएन)। गुजरात में आज नव वर्ष मनाया जा रहा है। इस अवसर पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुजरातवासियों को ट्वीट कर नव वर्ष की बधाई व शुभकामनाएं दी हैं। बता दें कि यह दिन गुजरातवासियों के लिए साल का सबसे बड़ा दिन होता है।

गुजराती विक्रम संवत कैलेंडर के अनुसार इस दिन नये साल की शुरुआत होती है। इसके अलावा पड़ोसी देश नेपाल का यह राष्ट्रीय कैलेंडर होता है। हालांकि गुजरात का कैलेंडर इनसे थोड़ा अलग होता है, यहां दिवाली के दूसरे दिन नया साल मनाया जाता है।

राष्ट्रपति कोविंद ने शुभकामनाएं देते हुए लिखा, 'साल मुबारक! भारत और दुनिया भर में रहने वाले हमारे सभी गुजराती भाईयों और बहनों को नव वर्ष की बधाई और शुभकामनाएं। मेरी कामना है कि आगामी साल हमारे परिवारों में खुशियां, शांति और समृद्धि लाने वाला हो।'

इस अवसर पर प्रधानमंत्री मोदी ने लिखा, 'गुजरात के सभी लोगों को नववर्ष की शुभकामनाएं, प्रार्थना है कि आने वाला वर्ष आपके सारे मनोकामनाओं को पूरा करे। आप सभी स्वस्थ और दीर्घायु रहें। साल मुबारक।'

आपको बता दें कि गुजराती नव वर्ष की शुरुआत दीपावली के दूसरे दिन होती है। गुजराती कैलेंडर के अनुसार यह महीनें का पहला दिन होता है। इसे बेस्तु वर्ष और वर्ष-प्रतिपदा या पाडवा भी कहा जाता है। मान्यता है कि भगवान श्री कृष्ण ने ब्रज में तेज बारिश को रोकने के लिए गोर्वधन पूजा की थी। गोर्वधन पूजा के दिन से गुजराती नव वर्ष की शुरुआत मानी जाती है।

इस दिन रिश्तेदार और दोस्त एक दूसरे के यहां जाकर उन्हें 'साल मुबारक' और 'नूतन वर्ष अभिनंदन' कहकर नए साल की मुबारकबाद देते हैं। अन्य राज्यों में दिवाली जहां एक दिन का त्योहार मनाया जाता है वहीं गुजरात में यह पांच दिनों तक लगातार मनाया जाता है। यह धनतेरस से शुरु होकर भाईदूज के दिन खत्म होता है। मालूम हो कि, गुजराती विक्रम संवत कैलेंडर के अनुसार यह साल 2074 मनाया जा रहा है।

Posted By: Arti Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस