नई दिल्ली, जेएनएन। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जापान की दो दिवसीय यात्रा संपन्न कर मंगलवार सुबह स्वदेश वापस लौट आए हैं। मोदी 13वें भारत-जापान वार्षिक शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए जापान के दौरे पर थे। इस दौरान दोनों देशों के कई अहम समझौते हुए। पीएम मोदी ने अपनी यात्रा के दौरान टोक्यो में भारतीय समुदाय को भी संबोधित किया।

भारत और जापान ने 75 अरब डॉलर की मुद्रा अदला-बदली (करैंसी स्वैप) समझौते पर हस्ताक्षर किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जापान यात्रा के दौरान इस समझौते को दोनों देशों ने मंजूरी दी, जिससे देश की विदेशी मुद्रा और पूंजी बाजार में स्थिरता आने की उम्मीद है। भारत की तरफ से जारी बयान में कहा गया है कि इस समझौते की मदद से विदेशी मुद्रा विनिमय के मामले में बड़ी राहत मिलेगी। साथ ही यह समझौता दोनों देशों के बीच आर्थिक सहयोग को और प्रगाढ़ करेगा।

नरेंद्र मोदी और जापान के प्रधानमंत्री शिंजो एबे की बीच दोनों देशों के बीच के द्विपक्षीय कारोबार, क्षेत्रीय मुद्दे और वैश्विक स्थिति को लेकर भी चर्चा हुई। वित्त मंत्रायल की तरफ से जारी बयान में कहा गया है कि दोनों देशों के बीच हुए इस समझौते से भारत के कैपिटल मार्केट और विदेशी विनिमय को स्थिरता मिलेगी। इस समझौते के बाद से भारत जरूरत पड़ने पर 75 अरब डॉलर की पूंजी का इस्तेमाल कर सकता है।

Posted By: Arti Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस