गुवाहटी, एजेंसी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी असम के शिवसागर में पहुंच गए हैं। असम के सीएम सर्बानंद सोनोवाल ने मोदी का स्वागत किया। पीएम मोदी ने यहां पहुंच असम के शिवसागर में स्वदेशी लोगों को भूमि आवंटन प्रमाण पत्र वितरित किए।

Updates:

-पीएम ने कहा, असम में तेल और गैस से जुड़े इंफ्रास्ट्रक्चर पर बीते वर्षों में 40 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा का निवेश किया गया है। गुवाहाटी-बरौनी गैस पाइप लाइन से नॉर्थ ईस्ट और पूर्वी भारत की गैस कनेक्टिविटी मजबूत होने वाली है।

-मोदी बोले- ऐतिहासिक बोडो समझौते से अब असम का एक बहुत बड़ा हिस्सा शांति और विकास के मार्ग पर लौट आया है। समझौते के बाद हाल में बोडोलैंड टेरिटोरियल काउंसिल का पहला चुनाव हुआ है और प्रतिनिधि चुने गए।

-पीएम ने कहा कि एनडीए सरकार ने हमेशा असमिया भाषा के संरक्षण और उसके साहित्य को बढ़ावा देने सहित नीतियों को लागू करने के पीछे असमिया संस्कृति को बनाए रखा है।

-मोदी ने कहा, 'कोरोना टीकाकरण के लिए जिसकी बारी आए, वो टीका जरूर लगवाएं। टीके की 2 डोज लगनी जरूरी है।' आगे कहा कि पूरी दुनिया में भारत में बने टीके की डिमांड हो रही है। भारत में भी लाखों लोग अब तक टीका लगवा चुके हैं।

-पीएम मोदी ने कोरोना महामारी के बारे में बात करते हुए कहा कि हमें टीका भी लगवाना है, सावधानी भी जारी रखनी है। आप सब स्वस्थ रहें, प्रगति करें, यही मेरी कामना है। पीएम ने आगे कहा, 'जिस तरह से असम ने कोरोना महामारी को संभाला है, मैं उसके लिए असम की जनता को धन्यवाद देता हूं।'

-पीएम बोले- आत्मविश्वास तभी बढ़ता है जब घर-परिवार में भी सुविधाएं मिलती हैं और बाहर का इंफ्रास्ट्रक्चर भी सुधरता है। बीते वर्षों में इन दोनों मोर्चों पर असम में अभूतपूर्व काम किया गया है।

-पीएम मोदी ने कहा कि 5 साल पहले तक असम के 50 फीसद से भी कम घरों तक बिजली पहुंची थी, जो अब करीब 100% तक पहुंच चुकी है। जल जीवन मिशन के तहत बीते 1.5 साल में असम में 2.5 लाख से ज्यादा घरों में पानी का कनेक्शन दिया गया है।

-पीएम मोदी बोले- असम में जब हमारी सरकार बनी तो उस समय भी यहां करीब-करीब 6 लाख मूल निवासी परिवार थे, जिनके पास जमीन के कानूनी कागज नहीं थे। लेकिन सर्वानंद सोनोवाल जी के नेतृत्व में यहां की सरकार ने आपकी इस चिंता को दूर करने के लिए गंभीरता के साथ काम किया।

-पीएम ने कहा कि आज पराक्रम दिवस पर देश मे अनेक कार्यक्रम शुरू हो रहे हैं, आज का दिन उम्मीदों के पूरा होने के साथ ही हमारे राष्ट्रीय संकल्पों की सिद्धि के लिए प्रेरणा लेने का भी अवसर है

-पीएम ने कहा कि 2019 में बनाई गई नवीन भूमि योजना यहां की सरकार की प्रतिबद्धता को दर्शाती है। आत्मनिर्भर भारत के लिए पूर्वोत्तर और असम दोनों का विकास बहुत ही आवश्यक है।

-प्रधानमंत्री बोले- असम के लोगों का ये आशीर्वाद, आपकी ये आत्मीयता मेरे लिए बहुत बड़ा सौभाग्य है। आपका ये प्रेम और स्नेह मुझे बार-बार असम ले आता है। प्रधानमंत्री ने कहा, नेताजी का स्मरण आज भी हमें प्रेरणा देता है।

-असम के मंत्री हिमंत बिस्वा सरमा, शिवसागर में बोले- असम और उत्तर-पूर्व का केंद्र सरकार द्वारा उचित ध्यान रखा गया और पिछले 6 वर्षों के दौरान अभूतपूर्व प्रगति हुई। विकास और समावेशी विकास के क्षेत्र में क्षेत्र को एक नई दिशा देने के लिए हम पीएम को धन्यवाद देते हैं।

-असम सीएम सर्बानंद सोनोवाल, शिवसागर में बोले- प्रधान मंत्री असम और उसके लोगों के सबसे बड़े शुभचिंतक हैं। असम और पूर्वोत्तर क्षेत्र का विकास उनके समर्थन के कारण संभव हो पाया।

बताया गया था कि मोदी द्वारा शिवसागर जिले के जेरेंगा पोथार में भूमिहीन लोगों के बीच एक लाख छह हजार पट्टे वितरित करने की योजना है। बता दें कि आजादी के बाद यह पहला मौका है जब किसी ने इनलोगों की सुध ली है। असम में यह एकमुश्त पट्टे बांटने का रिकार्ड होगा। वहीं, बताया जा रहा है कि अगले साढ़े चार साल में असम सरकार 2 लाख 28 हजार से ज्यादा लोगों को पट्टे वितरित करेगी।

असम सरकार इस महीने 1 लाख से अधिक लोगों को जमीन का पट्टा देगी। जहां आज प्रधानमंत्री शिवसागर में वितरण प्रक्रिया शुरू कर चुके हैं। बता दें कि असम सरकार ने हाल ही में 1 लाख से अधिक लोगों को भूमि पटटे प्रदान किए हैं और मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने इस महीने 1 लाख से अधिक लोगों को भूमि पटटे प्रदान करने का निर्णय लिया है।

यह भी पढ़ें: जेरेंगा पोथार में राजकुमारी जॉयमती ने पति के लिए दिया था बलिदान, इसी मैदान में PM मोदी ने की रैली

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप