नई दिल्ली, आइएएनएस। मामल्लपुरम में शनिवार को जब पीएम मोदी (PM Modi) और चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग (Xi Jinping) के बीच महत्वपूर्ण शिखर वार्ता चल रही थी, उसी दौरान ट्विटर पर 'हैशटैगडोंटगोबैकमोदी' (#DontGoBackModi) ट्रेंड कर रहा था। एक यूजर ने लिखा कि कई पीढि़यों के बाद एक ऐसा नेता पैदा हुआ है। देश को आने वाले कई वर्षो तक पीएम नरेंद्र मोदी के समर्पण और मार्गदर्शन की जरूरत है।

दरअसल, शुक्रवार को #GoBackModi  ट्विटर पर ट्रेंड कर रहा था। जिन हैंडल से से यह प्रपंच फैलाया जा रहा था, वह सभी पाकिस्तान के थे। इस दुष्प्रचार के खिलाफ सोशल मीडिया यूजर ने शनिवार सुबह से ही मोर्चा संभाल लिया और '#DontGoBackModi ' ट्विटर पर ट्रेंड करने लगा।

कई यूजर ने पीएम मोदी की मामल्लपुरम स्थित समुद्र के किनारे कचरा बीनने की तस्वीरें भी पोस्ट कीं। एक यूजर ने लिखा कि एक सच्चा नेता उदाहरण पेश करता है। यदि इस देश का प्रधानमंत्री समुद्र तट पर जाकर कचरा बीन सकता है तो हम सभी को भी पर्यावरण साफ रखने और अपने आप को फिट रखने की दिशा में प्रयास करना चाहिए।

पीएम मोदी ने तमिलनाडु सरकार और लोगों का किया धन्यवाद 

मामल्लपुरम में चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग के साथ शिखर सम्मेलन के दौरान दिखाई गई अत्यधिक गर्मजोशी और आतिथ्य के लिए पीएम मोदी ने तमिलनाडु के प्रति आभार व्यक्त किया है। उन्होंने एक ट्वीट में कहा, 'तमिलनाडु के मेरे भाइयों और बहनों को विशेष धन्यवाद। हमेशा की तरह उनकी गर्मजोशी और आतिथ्य सत्कार उल्लेखनीय था।'

पीएम मोदी ने मामल्लपुरम में शिखर सम्मेलन के आयोजन के लिए तमिलनाडु सरकार और उसके प्रयासों के लिए आभार जताया है। उन्होंने कहा, मैं तमिलनाडु के सभी राजनीतिक दलों और सामाजिक- सांस्कृतिक संगठनों का भी आभार व्यक्त करना चाहूंगा। बता दें कि इससे पहले शी ने कहा था कि वह मामल्लपुरम में आतिथ्य से वास्तव में अभिभूत हैं। शी ने कहा था कि वह भारत सरकार, तमिलनाडु सरकार और यहां के लोगों में चीन सरकार के प्रति दिखाई गई मित्रतापूर्ण भावनाओं को महसूस करते हैं।

यह भी पढ़ें:  Modi Xi Jinping Meet: तस्वीरों के जरिए देखें, भारत-चीन के प्राचीन संबंधों को नया आयाम

यह भी पढ़ें:  शाह ने कहा- मानवाधिकार को भारतीय संदर्भ में नए सिरे से परिभाषित करने की जरूरत

Posted By: Dhyanendra Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप