पणजी, एएनआइ। गोवा में सरकार बनाने की मंसूबे पाले बैठी कांग्रेस को मंगलवार को तगड़ा झटका लगा। वरिष्ठ पार्टी नेता और विधायक लुइजिन्हो फलेरो ने कांग्रेस प्रदेश कांग्रेस कमेटी से इस्तीफा दे दिया है। इसके साथ ही उन्होंने नेता प्रतिपक्ष का पद लेने से भी इनकार कर दिया। इस्तीफा देने के बाद उन्होंने तत्कालीन गोवा कांग्रेस प्रभारी दिग्विजय सिंह पर गंभीर आरोप लगाए। लुइजिन्हो फलेरो ने कहा कि विधानसभा चुनाव के बाद हम सरकार बनाने चाहते थे और राज्यपाल को ज्ञापन सौंपने जा रहे थे, लेकिन दिग्विजय सिंह ने ऐसा नहीं करने दिया।

कांग्रेस विधायक लुइजिन्हो फलेरो ने कहा कि मैंने इसके विरोध में प्रदेश कांग्रेस कमेटी से इस्तीफा दे दिया और विपक्ष का नेता बनने से इनकार कर दिया। फलेइरो के इस रुख को कांग्रेस के लिए झटका माना जा रहा है। लोकसभा चुनाव से पहले फलेरो का बागी रुख कांग्रेस के लिए अच्छा संकेत नहीं है।

बता दें कि, वर्तमान में कांग्रेस गोवा विधानसभा में मुख्य विपक्षी पार्टी है। उसके पास 14 विधायक हैं। पिछले वर्ष विपक्षी पार्टी ने गोवा में सरकार बनाने का दावा पेश किया था। विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने 16 सीटें मिली थी, हालांकि बाद में दो विधायक इस्तीफा देकर भाजपा में शामिल हो गए। भाजपा के पास 14, गोवा फारवर्ड पार्टी (जीएफपी), महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी (एमजीपी) के तीन-तीन, राकांपा का एक और तीन निर्दलीय हैं। इनके समर्थन से ही राज्य में भाजपा की अगुआई वाली सरकार है। गोवा में विधानसभा चुनाव फरवरी 2017 में कराए गए थे।

Posted By: Mangal Yadav

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप