नई दिल्ली, जागरण ब्यूरो। भारतीय बैंकों को अरबों रुपये का चूना लगा कर विदेश फरार उद्योगपति मेहुल चोकसी को एंटीगुआ से लाने की कोशिशें सरकार ने तेज कर दी है। आज इस बारे में एंटीगुआ स्थित भारतीय उच्चायोग के अधिकारी वहां के स्थानीय अधिकारियों से मिलेंगे और चोकसी के भारत प्रत्यार्पण का आधिकारिक तौर पर अनुरोध करेंगे। इसके साथ ही चोकसी के पीछे पड़ी भारतीय जांच एजेंसियों की तरफ से भी एंटीगुआ सरकार से इस संदर्भ में आग्रह किया जाएगा।

यह जानकारी भारतीय विदेश मंत्रालय के सूत्रों ने दी। विदेश मंत्रालय के सूत्रों ने बताया कि जैसे ही जार्जटाउन (एंटीगुआ व बारबाडोस की राजधानी) स्थिति भारतीय उच्चायोग को मेहुल चोकसी के वहां होने की सूचना मिली वहां के अधिकारियों ने स्थानीय प्रशासन को एलर्ट किया कि उसे पकड़ा जाए।

एंटीगुआ सरकार को भारतीय उच्चायोग ने लिखित तौर पर भी चोकसी के बारे में सूचना दी है कि उसे किसी भी तरीके से वहां से बाहर निकलने से रोका जाए। इस बारे में और बात करने के लिए भारतीय अधिकारियों की एंटीगुआ सरकार के अधिकारियों से आज बैठक भी हो रही है। साथ ही भारत सरकार की अन्य जांच एजेंसियां जो मेहुल चोकसी के पीछे पड़ी हुई हैं वे भी इस बारे में आवश्यक प्रस्ताव भेजने जा रही है।

विदेश मंत्रालय की इस सफाई के बावजूद यह स्पष्ट नहीं है कि भारत सरकार ने फरवरी, 2018 में जब चोकसी का पासपोर्ट रद किया है, तो उसके पहले वह एंटीगुआ का पासपोर्ट हासिल करने में कैसे सफल हो गया। इस बारे में भारत सरकार की तरफ से कार्रवाई की जा सकती है कि उसने पहले का भारतीय पासपोर्ट को वापस किये बगैर दूसरे देश का पासपोर्ट कैसे हासिल कर लिया।

गौरतलब है कि मेहुल चोकसी के पहले भारतीय बैंकों को 13 हजार करोड़ रुपये की चपत लगाने वाले एक अन्य उद्योगपति नीरव मोदी भी भारत से गायब होने के बाद किस किस देश में रहा उसे भारतीय जांच एजेंसियां पकड़ने में बिल्कुल नाकामयाब रही। जब ब्रिटेन के समाचार पत्रों में छपा कि नीरव मोदी ब्रिटेन में है तब जा कर भारत सरकार को उसकी भनक लगी।

Posted By: Tilak Raj

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस