नई दिल्ली, प्रेट्र। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर की गई टिप्पणी के लिए कानून मंत्री किरण रिजिजू ने मंगलवार को कांग्रेस नेता राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए कहा कि चीन सीमा के मसले पर कोई बयान देने से पहले उन्हें संप्रग शासनकाल के दौरान इस विषय पर दिए गए तत्कालीन रक्षा मंत्री एके एंटनी के बयान को सुनना चाहिए।

किरण रिजिजू ने राहुल गांधी के एक ट्वीट का जवाब देते हुए यह बात कही। राहुल ने प्रधानमंत्री पर कटाक्ष करते हुए कहा था कि वह चीन को लाल आंखें क्यों नहीं दिखाते हैं। रिजिजू ने इसपर पलटवार करते हुए कहा कि चीन सीमा मुद्दे पर कुछ भी बोलने से पहले कृपया कांग्रेस सरकार के रक्षा मंत्री का बयान सुने।

राहुल गांधी ने हिंदी में ट्वीट कर कहा था, 'श्रीमान 56 इंच, लाल आंख क्यों नहीं दिखा देते।' इसके साथ ही उन्होंने उस खबर को टैग किया था कि 13वें दौर की कमांडर स्तरीय वार्ता के बाद चीन सीमाओं से पीछे हटने को तैयार नहीं है। रिजिजू ने भी ट्विटर का सहारा लिया और राहुल गांधी को हिंदी में जवाब दिया। जिजू ने ट्वीट कर कहा, 'संवेदनशील राष्ट्रीय सुरक्षा के मसलों पर सोचिए, समझिए और बेहद सावधान रहें।'

इसके साथ ही उन्होंने एक वीडियो क्लिप साझा किया जिसमें एंटनी कथित रूप से संसद में बोल रहे हैं। छह सितंबर, 2013 के इस बयान में एंटनी ने सदन को बताया था कि कई वर्षो तक स्वतंत्र भारत की नीति रही कि सीमा को विकसित नहीं करना ही सर्वश्रेष्ठ बचाव है। उन्होंने कहा था कि विकसित सीमाओं के मुकाबले अविकसित सीमाएं ज्यादा सुरक्षित हैं। साथ ही उनका कहना था कि चीन ने सीमा पर अपने बुनियादी ढांचे को विकसित कर लिया है।

Edited By: Manish Pandey