नई दिल्ली, एएनआइ। 21 जून को देश में टीकाकरण के महाअभियान पर पूर्व वित्त मंत्री और कांग्रेस नेता पी चिदंबरम के तंज पर प्रहार करते हुए भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा कि भारत लंगड़ा नहीं है, बल्कि हमारे नागरिकों की ताकत से आगे बढ़ रहा है। रिकॉर्ड सोमवार के बाद, भारत ने मंगलवार और बुधवार को 50 लाख टीकाकरण को पार कर लिया है, जो कांग्रेस पार्टी को नापसंद है। जब भी भारत कोई रिकॉर्ड हासिल करता है तो भारतीयों पर हमला करना कांग्रेस की संस्कृति है। इसके अलावा, एक 'रिकाउंटिंग मिनिस्टर' से संख्याओं की पवित्रता के बारे में सुनना विडंबना है, जिसका एकमात्र दावा प्रसिद्धि का दावा बजट में संख्या तैयार करना है।

ज्ञात हो कि कांग्रेस नेता पी चिदंबरम ने टीकाकरण पर ट्वीट कर कहा था कि रविवार को जमाखोरी, सोमवार को टीका लगाएं और मंगलवार को लंगड़ाकर वापस लौट जाएं। "एक दिन" के टीकाकरण के विश्व "रिकॉर्ड" के पीछे यही रहस्य है। मुझे यकीन है कि इस "करतब" को गिनीज बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में जगह मिलेगी! कौन जाने, हो सकता है मेडिसिन का नोबेल पुरस्कार मोदी सरकार को दिया जाए। 'मोदी है, मुमकिन है' को अब पढ़ना चाहिए 'मोदी है, चमत्कार है।'

उधर, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने ट्वीट कर लिखा कि मध्य प्रदेश में 20 जून: 692 वैक्सीन लगी, 21 जून को 16,91,967, 22 जून को 4825 वैक्सीन लगी। वैक्सीन जमा की, इवेंट के लिए एक दिन में लगा दी, फिर अगले दिन कम। दिसंबर तक सबको वैक्सीन देने के लिए देश में प्रतिदिन 80-90 लाख वैक्सीन लगानी होंगी। डेल्टा+ वेरिएंट देश में दस्तक दे चुका है। अभी मात्र 3.6% जनसंख्या का पूर्ण वैक्सीनेशन हुआ है, लेकिन पीएम महोदय EM इवेंट मैनेजर की भूमिका अपनाए हुए हैं। खुद की पीठ थपथपाने के अगले ही दिन वैक्सीनेशन में 40% की गिरावट आ गई। रिकॉर्ड वैक्सीन के प्रोपेगेंडा का फॉर्मूला।

Edited By: Arun Kumar Singh