पणजी, एएनआइ। गोवा में कोविड-19 के बढ़ते मामले पर चिंता जताते हुए राज्य के निर्वाचन क्षेत्र पोर्वोरिम (Porvorim) से स्वतंत्र विधायक रोहन खौंते ( Rohan Khaunte) ने बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से सहायता की अपील की। उन्होंने राज्य में हालात को दयनीय बताते हुए कहा कि राज्य में प्रधानमंत्री मोदी से हस्तक्षेप की मांग की। उन्होंने राज्य सरकार पर आरोप लगाया कि वे मामले को काफी हल्के में ले रहे हैं और स्थिति की गंभीरता को नहीं समझ रहे।

उन्होंने कहा, 'गोवा में हालात बद से बदतर हो गया है। 8 जून को संक्रमण का मामला 330 था जो 10 जून को 387 हो गया।'  उन्होंने प्रधानमंत्री को लिखे गए अपने पत्र में कहा कि गोवा में औसतन संक्रमण के आंकड़े बढ़ते जा रहे हैं और इससे यहां के लोगों के दिमाग में डर बैठ गया है। उन्होंने आगे लिखा, 'गोवा के मुख्यमंत्री और भाजपा सरकार महामारी के कारण पैदा हुए इस भयावह हालात मुकाबला काफी सामान्य तरीके से कर रहे हैं और लोगों की बहुमूल्य जिंदगी को अहमियत नहीं दे रहे हैं।'

उन्होंने आगे कहा है कि सभी राजनीतिक एजेंडे को भुलाकर मैं आपसे हस्तक्षेप की अपील करता हूं ताकि तुरंत आवश्यक उपाय किए जा सकें। वहीं मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने कहा, 'गुरुवार से राज्य पहुंचने वाले लोगों के पास विकल्प होगा कि चाहे तो वे कोविड-19 की जांच न कराएं। हालांकि, एंट्री के वक्त देखा जाएगा कि उनमें संक्रमण के लक्षण हैं या नहीं।' उन्होंने कहा कि जो लोग जांच नहीं करवाने का विकल्प चुनेंगे उन्हें 14 दिन घर पर ही क्वारंटीन में रहना होगा। पिछले दिनों गोवा सरकार राज्य में बाहर से आने वाले सभी लोगों के लिए कोविड-19 जांच को अनिवार्य कर दिया। 

गोवा में वर्तमान में संक्रमण के मामले 400 के करीब पहुंच गए हैं। इनमें सिर्फ 21 ही लक्षण वाले मामले हैं। किसी भी मरीज को वेंटिलेटर पर नहीं रखा गया है। तीन मरीजों को छोड़कर बाकी सभी मरीज गोवा के हैं। कुल मामलों में 194 मामले वास्को के मंगूर हिल इलाके से आए हैं। इलाके को कंटेनमेंट जोन घोषित कर दिया गया है। कोविड-19 के संक्रमण को रोकने के लिए काम कर रहे 11 स्वास्थ्यकर्मी अब तक संक्रमित हुए हैं। 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस