धार, (नईदुनिया)। अमेरिका के वॉशिंगटन शहर में जिस समय 7 डिग्री तापमान था, लगभग उसी समय सोमवार दोपहर करीब 12 से 2 बजे तक पूर्व अमेरिकी विदेश मंत्री व पहली महिला नागरिक रह चुकीं हिलेरी क्लिंटन ने धार जिले में मांडू का अवलोकन करीब 37 डिग्री तापमान के बीच किया। इस तापमान में भी 71 वर्षीय हिलेरी ने बिना किसी शिकन के मांडू के जहाज महल सहित अन्य महलों को देखा।

हिलेरी को दौरा करवाने वाले पर्यटन विकास निगम के अधिकृत गाइड विश्वनाथ तिवारी के मुताबिक, हिलेरी ने मांडू में करीब दो घंटे वास्तुकला के ऐतिहासिक स्मारक जहाज महल और हिंडोला महल को निहारा। उसमें बने जकूजी और स्टीम बाथ देख उन्साहित हुई। उन्होंने कहा कि मैंने अब तक जितनी जगह देखी, उसमें यह सबसे खूबसूरत है।

दुर्घटना से बाल-बाल बचीं हिलेरी क्लिंटन

हिलेरी क्लिटंन 12 मार्च को ऐतहासिक होशांग शाह के मकबरे की सीढ़ियां उतरते समय दो बार फिसल गईं।जानकारी के अनुसार, हिलेरी के गाइड विश्वनाथ तिवारी ने बताया कि होशांग शाह के मकबरे की सीढ़ियां उतरते समय वह दो बार फिसल गई थीं मांडू में सीढ़िया उतरते वक्त हिलेरी के पैर में लचक आ गई। इस वजह से महेश्वर में सारे कार्यक्रम निरस्त कर दिए गए। उनकी चिकित्सा सेवा टीम में शामिल धार के जिला चिकित्सालय के डॉ. नीरज छारी ने बताया उन्हें मामूली लचक आई थी। 

एसी छोड़ खुले में किया लंच

हिलेरी ने बिना किसी एयर कंडीशनर और 5 स्टार इंतजाम के तारापुर के जंगल में खुले में दोपहर का भोजन किया। इसमें उन्होंने सेंडविच, सलाद और बिस्किट जैसा हल्का भोजन लिया। इसके बाद वे महेश्वर रवाना हो गईं। उनकी सुरक्षा के लिए विशेष रूप से अमेरिका के दूतावास द्वारा निर्धारित सुरक्षा एजेंसी ने जिम्मा संभाला।

Posted By: Arti Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस