नई दिल्‍ली, प्रेट्र। करीब 175 कार्यकर्ताओं  और महिला ग्रुप की ओर से सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र भेजा गया। इस पत्र में  कथित भाजपा नेताओं द्वारा दिए गए 'हेट स्‍पीच'  के प्रति भय व्‍यक्‍त किया गया। साथ ही  उन पर आरोप लगाया कि वे दिल्ली में जारी चुनावी रैलियों के दौरान दुष्‍कर्म के भय को संदेश के तौर पर इस्‍तेमाल कर रहे हैं।

पत्र में दिल्‍ली चुनावों के दौरान चुनावी अभियान के तहत भाजपा नेताओं पर दिल्ली चुनाव प्रचार के दौरान घृणा भाषण देने और अभियान के लिए दुष्‍कर्म के भय को संदेश बनाने का आरोप लगाया गया है। समूहों ने पत्र में आरोप लगाया है कि चुनाव अभियान के दौरान भाजपा नेताओं द्वारा अपने समर्थकों से नागरिकता संशोधन कानून , राष्ट्रीय नागरिक पंजीकरण (एनआरसी) और राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर) के के खिलाफ प्रदर्शन कर रही महिलाओं पर हिंसा करने की अपील किए जाने को लेकर हिंसा का माहौल बना दिया गया है।

इस पत्र पर हस्‍ताक्षर करने वालों में  महिलावादी (feminist) अर्थशास्‍त्री देवकी जैन (Devaki Jain), कार्यकर्ता  लैला तैय्यबजी (Laila Tyabji), पूर्व भारतीय राजदूत मधु भादुड़ी ( Madhu Bhaduri), कमला भसीन (Kamla Bhasin) के साथ ऑल इंडिया प्रोग्रेसिव वुमंस एसोसिएशन  (AIPWA), नेशनल फेडरेशन ऑफ इंडियन वुमन  (NFIW) जैसे ग्रुप भी शामिल हैं। 

उल्‍लेखनीय है कि केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर और भाजपा सांसद प्रवेश वर्मा पर चुनावी रैली के दौरान भड़काऊ और विवादित बयान देने का आरोप है। प्रवेश वर्मा ने विवादित बयान दिया था कि यदि उनकी सरकार बनी तो एक घंटे में शाहीन बाग को खाली करा दिया जाएगा। अनुराग ठाकुर ने 27 जनवरी को रिठाला में रैली की थी। इस रैली का वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें उन्हें विवादित नारा लगवाते दिखाया गया है।

यह भी पढ़ें: Delhi Election 2020: विवादित बयान पर BJP के अनुराग ठाकुर व प्रवेश वर्मा को आज EC को देना है जवाब

यह भी पढ़ें: Shaheen Bagh Protests: शाहीन बाग में आज हो सकता है बड़ा हंगामा, आप नेता का बड़ा आरोप 

Posted By: Monika Minal

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस