नई दिल्ली, एएनआई। भारतीय वायुसेना के जीओसी(जनरल आफिसर कमांडिंग) उत्तरी कमान रणबीर सिंह की ओर से कहा गया है कि बालाकोट आतंकी बुनियादी ढांचे पर भारतीय वायुसेना द्वारा हवाई हमला एक बड़ी उपलब्धि थी। इस हमले को एक बड़ी उपलब्धि इस वजह से कह सकते हैं क्योंकि इस हमले के दौरान हमारे विमान दुश्मन के इलाके में गहराई तक चले गए और आतंकी लॉन्चपैड तक पहुंच गए, वहां पहुंचने के बाद हमला किया और सकुशल वापस आ गए। पाकिस्तान की सेना ऐसे मौके पर कुछ नहीं कर पाई। उन्होंने अपनी खीच मिटाने के लिए अगले दिन हमला किया। पाकिस्तानी सेना की ओर से इस हमले का जवाब देने के लिए अगले दिन हवाई कार्रवाई की गई, भारतीय वायु सेना ने इसका उन्हें मुंहतोड़ जवाब दिया।

एएनआई के अनुसार जीओसी-इन-चीफ नॉर्दर्न कमांड, लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह ने कहा है कि इस वर्ष के दौरान हम अब तक 86 आतंकवादियों को निष्प्रभावी करने में सफल रहे हैं और हमारे ऑपरेशन उसी तरह से जारी हैं। एक्शन के दौरान सेना ने लगभग 20 आतंकियों को पकड़ लिया है। पकड़े गए आतंकियों में से कई को मुख्यधारा में वापस लाने की कोशिश की जा रही है।

उधर अब पाकिस्तान की सेना को एयरस्ट्राइक के 75 दिन बाद अपने फाइटर प्लेन F-16 की सुरक्षा सता रही है। पाकिस्तान ने अपने तीन होम एयरबेस से F-16 विमान हटा लिए हैं। इन सभी फाइटर विमानों को पाकिस्तान ने अलग-अलग एयरबेस पर खड़ा किया है। एएनआई एजेंसी के अनुसार पाकिस्तान ने सरगोधा, पंजाब और सिंध एयरबेस से F-16 फाइटर विमानों को हटा लिया है। इन सभी विमानों को अब अन्य एयरबेसों पर शिफ्ट कर दिया गया है। इन चीजों को देखने से लग रहा है कि पाकिस्तान को एक बार फिर भारत से हमले का डर सता रहा है। इसलिए पाक वायुसेना ने अपने F-16 विमानों को फॉरवर्ड एयरबेस से हटा दिया है।

पाकिस्तान ने इन दिनों बालाकोट एयर स्ट्राइक के बाद इंटरनेशनल बॉर्डर और लाइन ऑफ कंट्रोल पर वायुसेना को सचेत कर दिया है। पाकिस्तान ने अपनी थल सेना को भी बॉर्डर पर टैंकों और आर्मर्ड रेजीमेंट की तैनाती की है। पाकिस्तान की इस हरकत पर भारत पहले से ही पैनी नजर बनाए हुए है। 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Vinay

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप